संजीवनी टुडे

मन की बात: PM मोदी ने कहा- स्वतंत्रता दिवस लोग नये तरीके से मनायें

संजीवनी टुडे 28-07-2019 12:52:19

मोदी ने अपने दूसरे कार्यकाल में आकाशवाणी पर अपने मासिक कार्यक्रम ‘मन की बात’ की दूसरी कड़ी में आज कहा, अगस्त महीना ‘भारत छोड़ो’ की याद ले कर आता है। मैं चाहूँगा कि 15 अगस्त की कुछ विशेष तैयारी करें आप लोग। आजादी के इस पर्व को मनाने का नया तरीका ढूढें। जन भागीदारी बढ़ें। 15 अगस्त लोकोत्सव कैसे बने? जनोत्सव कैसे बने? इसकी चिंता जरुर करें आप।


नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लोगों से स्वतंत्रता दिवस को नये तरीके से मनाने और उसे जन उत्सव बनाने की अपील की है । 

मोदी ने अपने दूसरे कार्यकाल में आकाशवाणी पर अपने मासिक कार्यक्रम ‘मन की बात’ की दूसरी कड़ी में आज कहा, “अगस्त महीना ‘भारत छोड़ो’ की याद ले कर आता है। मैं चाहूँगा कि 15 अगस्त की कुछ विशेष तैयारी करें आप लोग। आजादी के इस पर्व को मनाने का नया तरीका ढूढें। जन भागीदारी बढ़ें। 15 अगस्त लोकोत्सव कैसे बने? जनोत्सव कैसे बने? इसकी चिंता जरुर करें आप।” 

उन्होंने कहा कि दूसरी ओर यही वह समय है जब देश के कई हिस्सों में भारी बारिश हो रही है। कई हिस्सों में देशवासी बाढ़ से प्रभावित हैं। बाढ़ से कई प्रकार के नुकसान भी उठाने पड़ते हैं। बाढ़ के संकट में घिरे उन सभी लोगों को आश्वस्त करता हूँ, कि केंद्र, राज्य सरकारों के साथ मिलकर प्रभावित लोगों को हर प्रकार की सहायता उपलब्ध कराने का काम बहुत तेज गति से कर रहा है। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि वैसे जब हम टीवी देखते हैं तो बारिश का एक ही पहलू दिखता है- सब तरफ बाढ़, भरा हुआ पानी, ट्रैफिक जाम। मानसून की दूसरी तस्वीर - जिसमें आनंदित होता हुआ हमारा किसान, चहकते पक्षी, बहते झरने, हरियाली की चादर ओढ़े धरती - यह देखने के लिए तो आपको खुद ही परिवार के साथ बाहर निकलना पड़ेगा। बारिश, ताजगी और खुशी दोनों ही अपने साथ लाती है। मेरी कामना है कि यह मानसून आप सबको लगातार खुशियों से भरता रहे। आप सभी स्वस्थ रहें।

मोदी ने युवाओं को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि विजयी विद्यार्थियों के लिए यह उनके जीवन की ऐतिहासिक घटना होगी, लेकिन इसके लिए उन्हें क्विज प्रतियोगिता में हिस्सा लेना होगा और सबसे ज्यादा अंक प्राप्त करने होंगे। 

उन्हाेंने राजस्थान के जोधपुर से संजीव हरीपुरा, कोलकाता से महेंद्र कुमार डागा, तेलंगाना से पी. अरविन्द राव और कई लोगों के नरेंद्रमोदीऐप और माईगोव पर दिये सुझावों का जिक्र करते हुए कहा कि अंतरिक्ष की दृष्टि से 2019 भारत के लिए बहुत अच्छा साल रहा है। वैज्ञानिकों ने मार्च में ए- सेट प्रक्षेपित किया और उसके बाद चंद्रयान-2 छोड़ा। ए- सेट मिसाइल महज़ तीन मिनट में तीन-सौ किलोमीटर दूर उपग्रह को मार गिराने की क्षमता हासिल की गयी। यह उपलब्धि हासिल करने वाला भारत, दुनिया का, चौथा देश बना। भारत ने चंद्रयान - 2 के जरिए श्रीहरिकोटा से अंतरिक्ष की ओर अपने कदम बढ़ाए। यह मिशन कई मायनों में विशेष है। इससे चाँद के बारे में समझ को और भी स्पष्ट होगी और चाँद के बारे में ज्यादा विस्तार से जानकारियाँ मिल सकेंगी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि चंद्रयान -2 से देश को विश्वास और निर्भीकता मिली हैं। देश को अपनी प्रतिभा और क्षमता पर भरोसा होना चाहिए। यह मिशन पूरी तरह से भारतीय है और पूरी तरह से एक स्वदेशी मिशन है। इस मिशन ने एक बार फिर यह साबित कर दिया है कि जब बात नए-नए क्षेत्र में कुछ नया कर गुजरने की हो तो भारतीय वैज्ञानिक सर्वश्रेष्ठ हैं। उन्हाेंने कहा कि भारतीय वैज्ञानिकों ने रिकॉर्ड समय में तकनीकी समस्या को दूर किया और चंद्रयान-2 को प्रक्षेपित किया। वैज्ञानिकों की इस महान तपस्या को पूरी दुनिया ने देखा। 

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

 

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From national

Trending Now
Recommended