संजीवनी टुडे

महाराष्ट्र सरकार गठन, मुख्यमंत्री की कुर्सी के लिए पैदा हो सकते हैं नए राजनीतिक हालात

संजीवनी टुडे 11-11-2019 08:49:51

सरकार गठन को लेकर बैठकों का दौर जारी है। महाराष्ट्र में बीजेपी द्वारा सरकार बनाने से आधिकारिक तौर पर इंकार किए जाने के बाद राज्य में एक नया राजनीतिक हालात यह पैदा हो रहा है


डेस्क। महाराष्ट्र में राजनीतिक घटनाक्रम तेजी से बदल रहा है। सरकार गठन को लेकर बैठकों का दौर जारी है। महाराष्ट्र में बीजेपी द्वारा सरकार बनाने से आधिकारिक तौर पर इंकार किए जाने के बाद राज्य में एक नया राजनीतिक हालात यह पैदा हो रहा है, जहां कांग्रेस के समर्थन से शिवसेना-एनसीपी (राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी) की सरकार बनने की एक संभावना बन सकती है। जयपुर में कांग्रेस विधायकों की बैठक में पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को कोई भी निर्णय लेने के लिए अधिकृत किया गया।

ये खबर भी पढ़े: आखिरी ट्वंटी-20 मुकाबले में भारत ने सीरीज पर किया कब्जा, रोहित शर्मा ने कहा- बेहतरीन प्रदर्शन के कारण...

खबर के अनुसार आपको बता दें कि अधिकांश विधायक सेना के नेतृत्व वाली सरकार को शर्तों के साथ समर्थन देने के पक्ष में हैं। पार्टी के राज्य प्रभारी मल्लिकार्जुन खड़गे राजनीतिक हालात के बारे में सोनिया गांधी को जल्द ही अवगत कराएंगे। 


कांग्रेस सूत्रों ने यहां कहा कि पार्टी शिवसेना से बातचीत पर तभी विचार करेगी, जब वह भाजपा नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से अलग हो जाएगी और केंद्रीय कैबिनेट में उसके एक मंत्री अरविंद सावंत इस्तीफा दे देंगे। कांग्रेस नेता हुसैन दलवई ने कहा, “कांग्रेस को राज्य में उपलब्ध सभी विकल्पों पर विचार करना चाहिए।”

महाराष्ट्र के एक पूर्व मुख्यमंत्री के करीबी एक कांग्रेस सूत्र ने कहा, “एक संभावित परिदृश्य में सेना-एनसीपी की सरकार कांग्रेस के समर्थन से बन सकती है, जिसमें विधानसभा अध्यक्ष का पद राकांपा के पास हो सकता है।” कांग्रेस की रणनीति शरद पवार के परामर्श पर निर्भर होगी, जो मंगलवार को राकांपा विधायकों की बैठक के बाद सोनिया गांधी से मिलने वाले हैं। 

जानकारी के अनुसार शिवसेना ने एक तरह के सुलह और संवाद का रास्ता साफ करने के लिए अपने मुखपत्र सामना में एक संपादकीय में कहा है कि कांग्रेस राज्य की दुश्मन नहीं है। इस बीच, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने अपने विधायकों से मुलाकात की और राजनीतिक हालात पर चचार् की। विधायकों को मुंबई के एक होटल में रखा गया है।

अब सारी नजरें राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के अध्यक्ष शरद पवार पर है, जो मंगलवार को अपने विधायकों से मुलाकात करने वाले हैं। राकांपा नेता नवाब मलिक ने कहा, “हम उसी दिन इस मामले पर विचार करेंगे।” मलिक ने कहा, “यदि भाजपा-शिवसेना सरकार बनाते हैं तो हम विपक्ष में बैठेंगे। अन्यथा हम एक वैकल्पिक सरकार की संभावना तलाशेंगे।”

सूत्रों के अनुसार वरिष्ठ कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा ने रविवार को ट्वीट किया, “महाराष्ट्र के राज्यपाल को चाहिए कि अब दूसरे सबसे बड़े गठबंधन राकांपा-कांग्रेस को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करे, क्योंकि भाजपा-शिवसेना ने सरकार गठन से इंकार कर दिया है।” नवनिर्वाचित महाराष्ट्र विधानसभा में 105 विधायकों के साथ भाजपा सबसे बड़ी पार्टी है। जबकि शिवसेना के पास 56, राकांपा के पास 54 और कांग्रेस के पास 44 विधायक हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From national

Trending Now
Recommended