संजीवनी टुडे

लोकसभा चुनाव सुरक्षा : 63000 सुरक्षाकर्मी की तैनाती, चप्पे-चप्पे पर रहेगी नजर

संजीवनी टुडे 11-05-2019 19:26:16


नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में रविवार को होने वाले चुनाव के मद्देनजर सुरक्षा के चाक-चौबंद इंतजाम किए गए हैं। 63 हजार सुरक्षाकर्मियों की दिल्ली के विभिन्न इलाकों में चप्पे-चप्पे पर तैनाती की गई है। सुरक्षा इंतजाम का आलम यह है कि पिछले लोकसभा चुनाव की तुलना में इस बार सुरक्षाबलों की संख्या में 50 फीसदी से ज्यादा का इजाफा किया गया है।

इस बार पिछले साल की तुलना में करीब 4244 अतिरिक्त रिजर्व सुरक्षाबलों को किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए तैयार रखा गया है। साथ ही, मतदान के दो दिन पहले ही मतदान केंद्रों की सुरक्षा की कमान पैरा मिलिट्री फोर्स एवं सुरक्षा गार्ड को सौंपी गई है। इससे पहले हर बार चुनाव से एक दिन पहले मतदान केंद्रों पर पैरा मिलिट्री फोर्स एवं होमगार्ड की तैनाती की जाती थी लेकिन इस बार चार दिन पहले यानि नौ मई को ही पूरी दिल्ली में इनकी तैनाती कर दी गई।

स्पेशल कमिश्नर इंटेलीजेंस प्रवीर रंजन ने बताया कि उन्होंने खुद पूरी व्यवस्था पर नजर रखी हुई है और संबंधित एजेंसियों से सुरक्षा व्यवस्था को लेकर लगातार समन्वय बनाए हुए हैं। कहीं कोई गड़बड़ी की शिकायत न आए, इसके लिए पर्याप्त फोर्स की तैनाती की गई है और सभी जिलों व यूनिट के प्रमुखों इलाके में लगातार गश्त करते रहने और पूरी व्यवस्था की खुद ही समीक्षा करने के निर्देश दिए गए हैं। सुरक्षा में चूक की शिकायत आने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

466 क्रिटिकल श्रेणी के बूथों पर विशेष चौकसी
दिल्ली के कुल बूथ में से 466 को खतरे की श्रेणी में रखा गया है। इन बूथों पर सुरक्षा के अतिरिक्त इंतजाम किए गए हैं, जिस पर जिला प्रमुख नजर रखे हुए हैँ। इस बार नई व्यवस्था के तौर पर सभी वरिष्ठ अधिकारियों को पहले से ही रिजर्व पुलिस फोर्स मुहैया कराई गई है।

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

बूथों के बाहर क्यूआरटी रहेगी तैनात
अभेद्य सुरक्षा के लिहाज से सभी बूथों के बाहर क्विक रिस्पांस टीम(क्यूआरटी) की तैनाती रहेगी। चुनाव से एक दिन पहले सीमाओं पर चेक पोस्ट लगाकर भारी संख्या में पुलिसकर्मियों की तैनाती की जाएगी। साथ ही जाम से बचने के लिए पीसीआर एवं ट्रैफिक पुलिसकर्मी भी चौकस रहेंगे। इस बार दिल्ली पुलिस के कंट्रोल रूम के अलावा सभी सात रिटर्निंग अधिकारी एवं चुनाव आयोग के कार्यालय में कंट्रोल रूम बनाए गए हैं, जहां लैंडलाइन फोन भी मुहैया कराए गए हैं ताकि किसी तरह की गड़बड़ी होने पर कोई तुरंत कॉल कर सूचना दे सकें।

पुलिस मुख्यालय के अलावा होंगे 27 कंट्रोल रूम 
चौकस सुरक्षा और अन्य सुविधाओं को बेहतर बनाने की दिशा में दिल्ली पुलिस मुख्यालय के अलावा 27 अन्य वैकल्पिक कंट्रोल रूम भी बनाए गए हैं। इसका मकसद सुरक्षा व्यवस्था को डी सेंट्रलाइज करना और शिकायतों की तत्काल इलाके में तैनात अधिकारियों तक सूचना पहुंचाना है। इसबार पहली बार चुनाव में दिल्ली पुलिस के मोबाइल कंट्रोल रूम का इस्तेमाल भी किया जाएगा। बस को ओल्ड पुलिस लाइन में खड़ी की जाएगी।

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

पिछले बार व इस बार में क्या हैं बदलाव:
व्यवस्था----------------------------पिछला चुनाव में--------------इस चुनाव में
दिल्ली पुलिस के जवान----------------31014----------------------36000
सेंट्रल आर्म्स पुलिस फोर्स--------------43 कंपनी-------------------47 कंपनी
होमगार्ड की तैनाती की गई--------------5500----------------------13000
रिजर्व सुरक्षाबलों की तैनाती---------------00------------------------4244 
पीसीआर, ट्रैफिक व कम्यूनिकेशन---------00-----------------------10000
कुल सुरक्षाबल-----------------------------37000---------------------63000
कंपनी-----------------------------------------43--------------------------47

More From national

Trending Now
Recommended