संजीवनी टुडे

ऋण योजना माफी किसानों के साथ छलावा जैसा: चौधरी

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 06-12-2019 14:26:55

सरकार ने शुक्रवार काे राज्य सभा में कहा कि 10 बार चुनाव से पहले कुछ राज्य सरकारों ने किसानों की ऋण माफी योजना की घोषणा की है।


नई दिल्ली। सरकार ने शुक्रवार काे राज्य सभा में कहा कि 10 बार चुनाव से पहले कुछ राज्य सरकारों ने किसानों की ऋण माफी योजना की घोषणा की है। कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी ने एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि ऋण माफी योजना को लागू करना राज्यों पर निर्भर करता है। मध्य प्रदेश, राजस्थान और पंजाब राज्य सरकारों ने किसानों की ऋण माफी योजना की घोषणा की थी।

यह खबर भी पढ़ें:​ प्रकाश आंबेडकर ने हैदराबाद एनकाउंटर पर उठाए सवाल, जांच की मांग की

मध्य प्रदेश में 80 लाख किसान हैं जिनमें से मुख्यमंत्री फसल ऋण माफी योजना 2018-19 के तहत 20 लाख 23 हजार किसानों के 71.54 करोड़ रुपये के कर्ज माफ किये गये हैं। पंजाब में 34 लाख किसान हैं जिनमें से पांच लाख 55 हजार किसानों के 4501.04 करोड़ रुपये के ऋण माफ किये गये हैं। राजस्थान के 79 लाख किसानों में से 20 लाख किसानों की 7361.76 करोड़ रुपये कर्ज माफी हुई है। यह माफी राजस्थान कृषक ऋण माफी योजना 2019 के तहत की गयी है।

चौधरी ने कहा कि चुनाव से पहले ऋण माफी की घोषणा किसानों के साथ छलावा जैसा है। उन्होंने कहा कि सरकार 2022 तक किसानों की आय को दोगुनी करना चाहती है। सरकार चाहती है कि किसान आर्थिक रूप से इतना मजबूत हो कि वह दूसरे को ऋण दे। किसान जीवनभर कर्ज में न रहे। 

किसानों को फसलों के लिए कर्ज सात प्रतिशत ब्याज पर दिया जा रहा है, यदि किसान समय पर कर्ज का भुगतान करते हैं तो उसमें तीन प्रतिशत की कमी की जाती है। आपदा की स्थिति में ब्याज की राशि में दो प्रतिशत की और कमी की जाती है। कुछ राज्याें किसानों से फसली ऋण पर ब्याज नहीं लिया जाता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From national

Trending Now
Recommended