संजीवनी टुडे

किडनी कांड: जांच में पैसा लेने के मामले में सीओ हटे, बर्रा इंस्पेक्टर समेत तीन लाइन हाजिर

संजीवनी टुडे 11-06-2019 20:14:34

उत्तर प्रदेश के कानपुर जनपद में किडनी कांड की जांच कर रही पुलिस पर सांठ-गांठ का मामला प्रकाश में आया है। प्रकरण की जांच कर रहे पुलिस उपाधीक्षक गोविन्द नगर, बर्रा इंस्पेक्टर, एसएसआई व नौबस्ता एसआई समेत तीन पुलिस कर्मियों पर पैसे लेने का आरोप लगा है


कानपुर। उत्तर प्रदेश के कानपुर जनपद में किडनी कांड की जांच कर रही पुलिस पर सांठ-गांठ का मामला प्रकाश में आया है। प्रकरण की जांच कर रहे पुलिस उपाधीक्षक गोविन्द नगर, बर्रा इंस्पेक्टर, एसएसआई व नौबस्ता एसआई समेत तीन पुलिस कर्मियों पर पैसे लेने का आरोप लगा है। मामले का कड़ा संज्ञान लेते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने सीओ को हटाते हुए इंस्पेक्टर सहित तीन पुलिस कर्मियों लाइन हाजिर कर नई एसआईटी टीम का गठन किया है। 

बर्रा थानाक्षेत्र में फरवरी माह में संगीता देवी ने फर्जी तरीके से होने वाले मानव अंग प्रत्यारोपण की शिकायत दर्ज कराई थी। मामला प्रकाश में आते ही एक बड़े किडनी कांड रैकेट का खुलासा हुआ। जिसके तार जनपद के साथ ही लखनऊ, जयपुर, दिल्ली तक फैले थे। किडनी कांड रैकेट में पुलिस ने अब तक कई नामचीन डाक्टरों के साथ अस्पताल मालिक को गिरफ्तार किया जा चुका है।

 इस प्रकरण में एक पुलिस विभाग में तैनात एचसीपी के बेटा भी पकड़ा गया। जिससे प्रकरण की जांच कर रहे गोविन्द नगर पुलिस उपाधीक्षक आरके चतुर्वेदी, बर्रा थाना प्रभारी अतुल कुमार श्रीवास्तव व नौबस्ता थाने में तैनात एसआई द्वारा सांठ-गांठ कर बचाने का प्रयास किया गया। 

आरोप है कि इसके लिए सीओ गोविन्द नगर, बर्रा इंस्पेक्टर व नौबस्ता थाने के एसआई द्वारा जांच के नाम पर पैसा लिया गया। इसकी जानकारी होने पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अनंत देव ने गोपनीय जांच कराई जिसमें प्रथम दृष्टया मामला सही पाया गया।

 इस पर एसएसपी ने मंगलवार को कड़ा कदम उठाते हुए सीओ गोविन्द नगर को हटा दिया। उन्हें कार्यालय की जिम्मेदारी सौंपी गई। उनकी जगह फिलहाल आईपीएस चक्रेश मिश्रा को गोविन्द नगर क्षेत्राधिकारी की जिम्मेदारी सौंपी गई है। हालांकि सीओ की पैसा लेने में सीधी कोई भी संलिप्तता पाई गई है लेकिन जांच में भूमिका संदिग्ध होने के चलते उन पर कार्यक्षेत्र में बदलाव कर प्राथमिक कार्रवाई जरुर की गई है। 

बर्रा इंस्पेक्टर व एसएसआई समेत तीन लाइन हाजिर एसएसपी ने एचसीपी के बेटे से पैसा लिये जाने के मामले में बर्रा इंस्पेक्टर अतुल कुमार श्रीवास्तव, बर्रा एसएसआई राम खिलाड़ी व नौबस्ता थाने में तैनात एसआई विशेष कुमार की भूमिका बेहद संदिग्ध है। जांच में भी कई बार आरोपियों से उनके सेटिंग की बातें सामने आई, लेकिन उन्हें गंभीरता से नहीं लिया गया। लेकिन विभागीय कर्मी द्वारा पैसा लेने की शिकायत सामने आई तो एसएसपी ने जांच कराई। जिसमें संलिप्तता का पता चला और कप्तान ने बर्रा इंस्पेक्टर, एसएसआई व नौबस्ता एसआई को लाइन हाजिर कर दिया। बर्रा थाने का चार्ज राममूर्ति यादव को दिया गया है। 

जांच के लिए नई एसआईटी टीम गठित 
किडनी कांड की जांच कर रही एसआईटी टीम में सीओ आरके चतुर्वेदी, इंस्पेक्टर बर्रा अतुल कुमार श्रीवास्तव, एसएसआई राम खिलाड़ी व नौबस्ता एसआई विशेष कुमार शामिल थे। इस कार्रवाई के बाद पूरी एसआईटी टीम भी भंग कर दी गई। एसएसपी ने नई एसआईटी टीम का गठन ट्रेनी आईपीएस गीतांजलि के नेतृत्व में बनाई है जो अब किडनी कांड की जांच करेगी। 

मात्र 220000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314188188

 

More From national

Trending Now
Recommended