संजीवनी टुडे

कर्नाटक संकटः फिलहाल नहीं माने बागी विधायक फिर भी सरकार बचाने का दावा

संजीवनी टुडे 07-07-2019 18:29:38

कर्नाटक में कांग्रेस के 10 और जेडीएस के तीन बागी विधायकों के नहीं मानने के बाद भी सरकार बचाने की कवायद शुरु की गयी है।


बेंगलुरु। कर्नाटक में कांग्रेस के 10 और जेडीएस के तीन बागी विधायकों के नहीं मानने के बाद भी सरकार बचाने की कवायद शुरु की गयी है। कांग्रेस और जेडीएस का नेतृत्व बागी विधायकों को मनाने में जुटा हुआ है और सरकार को बचा लेने का दावा किया गया है। रविवार को जेडीएस नेता एचडी रेवन्ना, डी कुपेंद्र रेड्डी, एचके कुमारस्वामी और डीसी तमन्ना तथा कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार और पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा के बीच बैठक हुई। इस बैठक के बाद डीके शिवकुमार ने कहा कि दोनों पार्टियों के नेताओं की मीटिंग बुलाई गई है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि विधायक वापस लौट आएंगे।उधर, अमरीका से लौट रहे मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी बैठक में भाग लेने के लिए हवाई अड्डे से सीधे पार्टी कार्यालय पहुंचेंगे।बाद में एक होटल में दोनों पार्टियों के वरिष्ठ नेताओं की बैठक जारी है जिसमें असंतुष्ट विधायकों को वापस लाने पर मंथन चल रहा है।


बैठक में इस विषय पर भी विचार किया गया कि मंत्रिमंडल में फेरबदल के फैसले को तत्काल प्रभाव से लागू किया जाए, जिससे दोनों दलों के कुछ मंत्रियों से इस्तीफा दिलाकर असन्तुष्टों को मंत्री बनाया जाए। मुंबई के सोफिटेल होटल में मौजूद विधायकों में से एक बेल्लारी ग्रामीण विधायक बी नागेंद्र को कांग्रेस नेताओं ने बेंगलुरु के विंडसर मैनर होटल में तलब किया है। मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी आज शाम राजधानी वापस आ रहे हैं और वह भी पार्टी के विधायकों को इस्तीफा वापस लेने के लिए मनाने की पूरी कोशिश में लगे हुए हैं। एचडी देवेगौड़ा ने कांग्रेस आलाकमान को मल्लिकार्जुन खड़गे को मुख्यमंत्री बनाने का सुझाव दिया है। देवेगौड़ा के अनुसार, अधिकांश बागी विधायक मल्लिकार्जुन खड़गे का समर्थन करेंगे क्योंकि वह दलित हैं। रामलिंग रेड्डी ने रविवार को कहा कि मैं अपने विधायक पद से इस्तीफा देने के अपने रुख पर कायम हूं। कांग्रेस नेता सिद्धरामैया ने इस हालात के लिए भाजपा को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि पूरे घटनाक्रम से स्पष्ट है कि इसके पीछे भाजपा का हाथ है। यह ऑपरेशन कमल है। सरकार के समक्ष कोई खतरा नहीं है और यह बची रहेगी। 

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा ने रविवार को कहा कि पार्टी पूरे घटनाक्रम को देख रही है और सरकार बनाने की सम्भावनाओं से इनकार नहीं किया। उन्होंने कहा कि विधायकों के इस्तीफे की प्रक्रिया समाप्त होने और स्पीकर के फैसला लेने के बाद पार्टी के नेता चर्चा कर फैसला करेंगे। भाजपा के वरिष्ठ नेता आर अशोक ने 'ऑपरेशन कमल' में भाजपा की भागीदारी से इनकार किया तथा कहा कि भाजपा केवल कर्नाटक और उसके लोगों का विकास चाहती है। जेडीएस सुप्रीमो एच डी देवेगौड़ा ने कथित तौर पर राजनीतिक परिदृश्य में बदलाव के मामले में कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे को मुख्यमंत्री बनाने के लिए कहा है। इस सम्बन्ध में आज रात विधानमंडल दल की बैठक में अंतिम निर्णय लिया जा सकता है। कांग्रेस ने कथित तौर पर पार्टी के असंतुष्ट नेता रामालिंगा रेड्डी को उपमुख्यमंत्री पद की पेशकश की है। जेडीएस के एमएलसी बसवराज होरट्टी ने इस्तीफ़ों पर प्रतिक्रिया में कहा कि अब विधानसभा को भंग कर दिया जाना चाहिए और नए सिरे से चुनाव होने चाहिए।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता एचके पाटिल ने कहा कि हमारे नेता असंतुष्ट विधायकों के संपर्क में हैं। उन्होंने जल्द ही  सब कुछ ठीक हो जाने का दावा किया। उन्होंने कहा कि भाजपा समस्या उत्पन्न कर रही है लेकिन सरकार स्थिर है। गठबंधन सरकार सुरक्षित है और सुरक्षित रहेगी। हमारे सभी विधायक वापस आएंगे। उपमुख्यमंत्री जी परमेश्वर ने कहा कि पार्टी के कई विधायक मुंबई में डेरा डाले हुए हैं। पार्टी उन विधायकों पर फैसला लेगी। मंगलवार को विधानसभा अध्यक्ष रमेश कुमार सभी 13 विधायकों के इस्तीफे मंजूर करते हैं तो विधानसभा की संख्या 224 से घटकर 211 हो जाएगी। फिर 105 सीटों वाली कोई भी पार्टी सरकार बनाने का दावा कर सकती है। वर्त्तमान में भाजपा के पास 105 विधायक हैं। हालांकि, अफवाहें ऐसी भी हैं आने वाले दिनों में अन्य कई विधायक भी इस्तीफा देने वाले हैं। 

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 4300/- गज, अजमेर रोड (NH-8) जयपुर में 7230012256

More From national

Trending Now
Recommended