संजीवनी टुडे

राष्ट्रपति को विवाद में डालने के कारण सूचना प्रसारण मंत्री पद से हटाई गईं ईरानी!

संजीवनी टुडे 18-05-2018 10:51:44

नई दिल्ली। फेक न्यूज पर नकेल लगाने के बहाने मीडिया पर लगाम लगाने, पत्रकारों के एक्रेडिटेशन खत्म करने के लिए किये जा रहे उपक्रम, प्रसार भारती के प्रमुख सूर्य प्रकाश से लड़ाई , उनकी स्वतंत्र संस्था का बजट रोकने, अपने चहेतों को मोटी तनख्वाह पर वहां नियुक्त कराने की कोशिश, मंत्रालय के कर्मचारियों, पत्रकारों से व्यवहार के चलते मैडम स्मृति ईरानी सूचना प्रसारण मंत्री के तौर पर बहुत ही विवादों में आ गई थीं। उसके बाद भी उनको हटाया नहीं जा रहा था।

आपको बता दे की राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द व राष्ट्रपति सचिवालय को स्मृति ईरानी ने फिल्मों व फिल्मी कलाकारों को राष्ट्रीय पुरस्कार देने के मामले में विवादित कर दिया,उसके बाद उनको हटाना पीएम की मजबूरी हो गया। स्मृति व उनके मंत्रालय ने तब कहा था कि राष्ट्रपति केवल एक घंटा का समय दिये हैं। वह केवल 11 कलाकारों को पुरस्कार देंगे। अन्य को मंत्री पुरस्कार देंगे। मामला इतना तूल पकड़ लिया कि प्रधानमंत्री को इनको सूचना प्रसारण मंत्री बनाये रखना भारी पड़ने लगा। राष्ट्रपति भवन में फिल्मों के राष्ट्रीय पुरस्कार समारोह में केवल 11 कलाकारों को ही राष्ट्रपति पुरस्कार देंगे, 130 पुरस्कार मंत्री स्मृति ईरानी देंगी, यह पता चलने पर बहुत से कलाकारों ने पुरस्कार लेने के लिए आने से मना कर दिया। कार्यक्रम हुआ तो उसमें 60 कलाकार नहीं आये। उसका बहिष्कार कर दिये। इससे विवाद और बढ़ गया। राष्ट्रपति सचिवालय ने प्रधानमंत्री कार्यालय को पत्र लिखा कि सूचना प्रसारण मंत्रालय ने अंतिम समय तक पूरा कार्यक्रम नहीं दिया था। इसके बाद प्रधानमंत्री को सूचना प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी को बचाना मुश्किल हो गया। 

राष्ट्रपति सचिवालय के पत्र से साफ जाहिर हो गया और इस आशंका को बल मिला कि मैडम स्मृति ने 130 फिल्म वालों को खुद पुरस्कार देने के लिए यह सब किया। इतना ही नहीं जब इस पर विवाद हुआ तो अपने को बचाने के लिए इसका ठीकरा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उनके कार्यालय (राष्ट्रपति सचिवालय) पर फोड़ दिया। कहा जाता है कि इससे राष्ट्रपति बहुत आहत हुए थे और उन्होंने नाराजगी जताई थी। जो स्मृति ईरानी पर उल्टा पड़ गया । इस बारे में एक पूर्व मंत्री का कहना है कि यदि यह नहीं होता तो सूचना प्रसारण मंत्री पद से मैडम नहीं हटाई गई होतीं।
जयपुर में प्लॉट मात्र 2.40 लाख में call: 09314166166

MUST WATCH 

 

 स्मृति को मई 2014 में पहली बार में ही कैबिनेट मंत्री बनाकर मानव संसाधन विकास मंत्री जैसा भारी भरकम मंत्रालाय दिया गया। वहां मंत्री रहते उन्होंने जो कुछ किया उसके विवाद के चलते संघ से लगायत विपक्ष तक के निशाने पर आ गईं। तब उनको हटाकर कपड़ा मंत्री बनाया गया। लेकिन अगस्त 2017 में जब सूचना प्रसारण मंत्री वेंकैया नायडू को उप राष्ट्रपति बनाया गया तो उनके मंत्रालय का प्रभार स्मृति ईरानी को दे दिया गया। अब उनके पास केवल कपड़ा मंत्रालय रह गया है। 

Rochak News Web

More From national

Trending Now