संजीवनी टुडे

भारत एक संघ है जहां सभी सौहार्द संग मिलकर बैठते और खाते हैं: कमल हासन

संजीवनी टुडे 16-09-2019 15:31:43

अभिनेता से नेता बने कमल हासन ने सोमवार को केंद्र सरकार को एक देश, एक भाषा को बढ़ावा देने के विरुद्ध चेतावनी दी है।


चेन्नई। अभिनेता से नेता बने कमल हासन ने सोमवार को केंद्र सरकार को 'एक देश, एक भाषा' को बढ़ावा देने के विरुद्ध चेतावनी दी है। एक वीडियो जारी कर उन्होंने अप्रत्यक्ष रूप से केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर धावा बोलते हुए कहा है कि हिंदुस्तान साल 1950 में 'अनेकता में एकता' के वादे संग गणतंत्र बना था एवं अब कोई 'शाह, सुल्तान या फिर सम्राट' इससे मना नहीं कर सकता है। वीडियो में उन्होंने बोला है कि वह सभी भाषाओं का आदर करते हैं किन्तु उनकी मातृभाषा हमेशा तमिल रहेगी।

अनेक गुना बड़ा होगा आंदोलन
उन्होंने बताया कि, 'जल्लीकट्टू तो सिर्फ विरोध प्रदर्शन था। हमारी भाषा हेतु जंग उससे अनेक गुना अधिक होगी। राष्ट्रगान भी बांग्ला में होता है, उनकी मातृभाषा में नहीं। वो जिस बात का प्रतीक है, उसके कारण हम उसे गाते हैं और इसलिए क्योंकि जिस आदमी ने उसे लिखा वो प्रत्येक भाषा को अहमियत व आदर प्रदान करते थे।' कमल के मुताबिक, हिंदुस्तान एक संघ है जहां सभी सौहार्द संगमिलकर बैठते हैं और खाते हैं। 

यह खबर भी पढ़े:एयर इंडिया एसेट होल्डिंग ने पूँजी बाजार से जुटाये 7000 करोड़ रुपये

शाह के विरोध में दक्षिण भारत की पार्टियां
उल्लेखनीय है कि हिंदी दिवस पर शाह के जरिए एक देश-एक भाषा के सिद्धांत का पक्ष लिए जाने के पश्चात अब दक्षिण भारत के राजनीतिक दल इसके विरोध में उतर आए हैं।

तमिलनाडु की प्रमुख पार्टी द्रविड़ मुनेत्र कझगम के नेता एम के स्टालिन ने भारत सरकार पर आरोप लगाया है कि वो अपनी नीतियों में तमिलनाडु संग भेदभाव कर रही है तथा यहां के लोगों पर जबरन हिंदी भाषा को थोपा जा रहा है। 

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From national

Trending Now
Recommended