संजीवनी टुडे

स्वच्छ भारत की दिशा में महत्वपूर्ण कदम, प्लास्टिक के कचरे से होगा सड़क निर्माण

संजीवनी टुडे 19-02-2018 18:42:34

Source: Google


राउरकेला। एक पायलट प्रोजेक्ट के रूप में प्लास्टिक के कचरे को अलकतरा में मिलाकर राउरकेला क्लब से लेकर सेक्टर-2 शक्तिनगर चौक तक एक किलोमीटर सड़क का निर्माण किया गया है। राउरकेला इस्पात संयंत्र ने पर्यावरण के अनुकूल पहल में एक और अध्याय जोड़ा है। स्टील प्लांट ने सड़कों के निर्माण के लिए कचरा प्लास्टिक का उपयोग शुरू किया है। सेल के साथ-साथ ओडिशा में पहली बार इस तरह की कोशिश हुई है। 

यह भी पढ़े: VIDEO: विरूष्का कपल के दूसरे हनीमून ट्रीप का वीडियो वायरल

भारत में प्लास्टिक कचरे का केवल 60 फीसद ही पुनर्नवीकरण हो पाता है जबकि शेष पर्यावरण को ही दूषित करता है। खुले में जलाने से निकलने वाला धुआं स्वास्थ्य के लिए खतरनाक होता है एवं कैंसर जैसे रोग हो सकते हैं। निर्माण में प्लास्टिक कचरे का इस्तेमाल होने से न केवल पर्यावरण प्रदूषण कम होगा बल्कि इसकी लाभकारी उपयोगिता भी साबित होगी।

वैसे प्लास्टिक कचरा बायो डिग्रेडेब नहीं होने के कारण पर्यावरण को काफी नुकसान पहुंचाता है। प्राकृतिक रूप से नष्ट होने में इसे सैकड़ों साल लग जाते हैं।  इसीलिए प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन नियम 2016 प्लास्टिक के कचरे का उपयोग सड़क निर्माण में करने की सलाह देता है। इसी के अनुरूप राउरकेला स्टील प्लांट ने भारतीय सड़क कांग्रेस के निर्देशानुसार सड़क निर्माण में प्लास्टिक कचरे का उपयोग करने की प्रक्रिया शुरू की है।

MUST WATCH

वीडियो: जन्मदिन विशेष: बबिता से शादी के लिए रणधीर ने दी थी पिता को धमकी

आपको बता दें कि आरएसपी टाउनशिप में विभिन्न जगहों पर प्लास्टिक कचरा एकत्र किया जाता है, जिसे सेक्टर-15 में बनाए गए एक स्टोर में जमा किया जाता है। फिर उसे छोटे टुकड़ों में काटा जाता है जिसके बाद उसको हॉट मिक्स प्लांट में लाकर कंक्रीट के साथ मिलाया जाता है। यह 30 से 60 सेकेंड के भीतर गर्म होकर पिघल जाता है और कंक्रीट की ऊपरी सतह को ढक लेता है। इसके बाद इसे गर्म कोलतार के साथ मिलाकर सड़क निर्माण में उपयोग किया जाता है

sanjeevni app

More From national

Trending Now
Recommended