संजीवनी टुडे

वैक्सीन अगर कारगर और सुरक्षित है, तो भारत के पास बड़े पैमाने पर निर्माण करने की क्षमता

संजीवनी टुडे 11-08-2020 22:26:17

कोरोना वैक्सीन विकसित करने के रूस के दावे पर दुनियाभर की निगाहें हैं। इस मामले पर अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान(एम्स) के निदेशक


नई दिल्ली। कोरोना वैक्सीन विकसित करने के रूस के दावे पर दुनियाभर की निगाहें हैं। इस मामले पर अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान(एम्स) के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि रूस में विकसित कोरोना वैक्सीन के असर की वैज्ञानिक स्तर पर जांच होनी चाहिए। यह वैक्सीन संक्रमण रोकने में कारगर और सुरक्षित साबित होती है तो इसका बड़े पैमाने में उत्पादन करने की क्षमता भारत के पास है। डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि रूस के वैक्सीन के असर की वैज्ञानिक स्तर पर जांच होनी चाहिए। अगर जांच में यह वैक्सीन सुरक्षित और कारगर साबित होती है तो इसका लाभ सभी को मिलना चाहिए। 

यह खबर भी पढ़े: ​तीनों भारतीय सेनाओं के लिए​​ ​22​ हजार ​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​800​ करोड़ रुपये मंजूर ​

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From national

Trending Now
Recommended