संजीवनी टुडे

गृह मंत्री अमित शाह ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों से कहा- अनलॉक में गतिविधियां हों, लेकिन सावधानियों का पालन करें

संजीवनी टुडे 24-11-2020 22:10:00

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को कोविड-19 वैक्सीन वितरण और उसके प्रशासन के संबंध में राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कान्फ्रेंस द्वारा चर्चा की।

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को कोविड-19 वैक्सीन वितरण और उसके प्रशासन के संबंध में राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कान्फ्रेंस द्वारा चर्चा की। इस अवसर पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी मुख्यमंत्रियों को संबोधित किया। 
 
उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ अब तक यह लड़ाई सफलतापूर्वक लड़ी गई है। परिणाम भी अच्छे मिले हैं। जनता ने भी लड़ाई लड़ी है। सर्दी बढऩे से और उत्तर भारत में प्रदूषण बढऩे से जो समस्या आ रही है, वो चिंता का विषय बन सकती है। हम सभी सचेत हों, त्योहारों से भी कुछ संक्रमण बढ़ा है। बारीक एनालिसिस करें तो यह भी देखने को मिलता है कि जागरूकता में कमी आई है। इस मामले में ढिलाई दूर करनी होगी। घटती मृत्यु दर भी मनोवैज्ञानिक रूप से लोगों का भय दूर करती है, इससे जागरूकता में भी कमी आती है, अनलॉक में गतिविधियां हों पर हम सावधानियों का पालन करें तो समस्या नहीं बढ़ेगी। 
 
उन्होंने कहा कि कंटेनमेंट जोन का पुनर्निर्धारण, फेस मास्क के उपयोग, हाथ स्वच्छ रखने बार-बार धोने, दो गज की दूरी और एप्स के उपयोग के प्रति जागरूकता आवश्यक है। उन्होंने राज्यों के मुख्यमंत्रियों से अनुरोध किया कि दिशा निर्देशों के पालन के प्रति प्रशासन को सक्रिय करें टेस्टिंग कम ना हो कठोरता से नियमों का पालन हो सावधानी का संस्कार बना रहे।
 
इलेक्शन बूथ की तरह केन्द्र बनेंगे, दल गठित होंगे
इससे पहले नीति आयोग के डॉ. वीके पाल ने वैक्सीन की उपलब्धता के संबंध में विस्तारपूर्वक जानकारी दी। उन्होंने बताया कि वैक्सीन के लिए व्यवस्थाएं उम्मीद बांधने वाली है। भारत इस दिशा में सक्रिय है। वितरण की पारदर्शी व्यवस्था की जाएगी। विदेश स्तर पर और भारत के स्तर पर विभिन्न कंपनियां वैक्सीन विकसित करने के लिए प्रयासरत हैं। भारत सरकार द्वारा प्राथमिकतापूर्वक हाईरिस्क वालों को वैक्सीन देने का कार्य प्रस्तावित है। इसके संबंध में क्रियान्वयन के स्तर पर नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप के परामर्श से कार्य होगा। मोटे तौर पर अभी प्राथमिकता क्रम में सर्वप्रथम फ्रंटलाइन वर्कर्स, 65 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति और इसके पश्चात 65 वर्ष से कम आयु के रोगियों को वैक्सीन देना प्रस्तावित है। 
 
उन्होंने बताया कि प्रोविजनल प्रायोरिटी ग्रुप में करीब 30 करोड़ लोग शामिल हैं। जनभागीदारी और प्रशिक्षण की व्यवस्थाएं हो रही हैं। इलेक्शन बूथ की तरह दल गठित कर एकत्र होकर अधिकारी-कर्मचारी कार्य करेंगे। खण्ड स्तरीय योजना बनाई जाएगी। निजी और शासकीय डॉक्टर्स को विशेष जिम्मा रहेगा। भंडारण व्यवस्था, कम्युनिकेशन और समीक्षा एवं समन्वय के स्तर पर निरंतर कार्य हो रहा है।

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From national

Trending Now
Recommended