संजीवनी टुडे

पराली जलाने पर रोक की मांग वाली याचिका पर हाइकोर्ट का सुनवाई से इंकार

संजीवनी टुडे 22-10-2020 14:57:38

ल्ली हाईकोर्ट ने पंजाब, हरियाणा और उत्तरप्रदेश में पराली जलाने पर रोक की मांग करने वाली याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया है।


नई दिल्ली। दिल्ली हाईकोर्ट ने पंजाब, हरियाणा और उत्तरप्रदेश में पराली जलाने पर रोक की मांग करने वाली याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया है। चीफ जस्टिस डीएन पटेल की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट पहले से इसी तरह के मामले पर सुनवाई कर रहा है और पिछले 16 अक्टूबर को कमेटी भी गठित कर दी गई है।

गुरुवार को सुनवाई के दौरान कोर्ट को बताया गया कि इसी तरह की याचिका सुप्रीम कोर्ट के समक्ष लंबित है। सुप्रीम कोर्ट ने पराली पर नियंत्रण को लेकर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज जस्टिस मदन बी लोकुर की अध्यक्षता में कमेटी का गठन किया है। तब हाईकोर्ट ने कहा कि समानांतर सुनवाई करना सही नहीं है। पिछले 28 सितंबर को हाईकोर्ट ने केंद्र, केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और तीनों राज्यों को नोटिस जारी किया था।

याचिका सुधीर मिश्रा ने दायर की थी। याचिकाकर्ता की ओर से ऋत्विक नंदा ने कहा था कि पराली जलाने से कोरोना की स्थिति और खराब हो सकती है। पराली का धुंआ लोगों के लिए जानलेवा साबित हो सकता है। याचिका में कहा गया था कि पंजाब, हरियाणा और उत्तरप्रदेश से आनेवाले पराली के धुएं से समूचा उत्तर भारत गैस चैंबर में तब्दील हो जाएगा। पराली के धुएं का सीधा असर फेफड़ों पर होता है, फेफड़े कमजोर होने लगते हैं। फेफड़ा कमजोर होने से कोरोना का संक्रमण बढ़ने का खतरा ज्यादा है। 

याचिका में कहा गया था कि कोरोना की वजह से पूरे देश में 92 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना से मौत की सबसे बड़ी वजह से फेफड़ों के कमजोर होने से सांस लेने में दिक्कत और आक्सीजन की मात्रा में कमी को बताया जाता है। याचिका में कहा गया था कि अगर समय रहते पराली जलाने से नहीं रोका गया तो इससे जो धुंआ फैलेगा उससे लोगों के फेफड़े और ज्यादा कमजोर हो जाएंगे। 

यह खबर भी पढ़े: टॉस हारना हमारे लिए काफी फायदेमंद रहा: विराट कोहली

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From national

Trending Now
Recommended