संजीवनी टुडे

राज्यपाल ने बच्चों के प्रति यौन हिंसा जम्मू-कश्मीर संरक्षण अध्यादेश,2018 को दी मंजूरी

संजीवनी टुडे 17-05-2018 22:36:08


नई दिल्ली । राज्यपाल एनएन वोहरा ने जम्मू-कश्मीर आपराधिक कानून (संशोधन) अध्यादेश 2018 तथा बच्चों के प्रति यौन हिंसा संरक्षण अध्यादेश 2018 को मंजरी दी है। इसके द्वारा जम्मू-कश्मीर आपराधिक कानून (संशोधन) अध्यादेश,2018 में रणबीर दंड संहिता संवत 1989, आपराधिक प्रक्रिया संहिता 1989 और साक्ष्य अधिनियम संवत 1977 में संशोधन किया जाना है। 

उपर्युक्त अध्यादेश की मुख्य विशेषताएं में एक तो सोलह वर्ष से कम आयु की महिला से बलात्कार करने पर बीस साल तक कड़े कारावास के साथ दंडनीय किया गया है और इसे आजीवन सजा तक बढ़ाया जा सकता है। जिसका मतलब उस व्यक्ति के प्राकृतिक जीवन का शेष होगा। दूसरा बारह वर्ष से कम उम्र की एक महिला पर बलात्कार करना मृत्युदंड के साथ दंडनीय किया गया है। तीसरा सोलह वर्ष से कम आयु की महिला से सामूहिक बलात्कार को जीवन भर के कारावास के साथ दंडनीय बनाया गया है, जिसका मतलब उस व्यक्ति के प्राकृतिक जीवन के शेष के लिए कारावास होगा। 

 

चौथा बारह वर्ष से कम उम्र के महिला से सामूहिक बलात्कार को मृत्युदंड के साथ दंडनीय बनाया गया है। पांचवा ऐसे मामलों में जांच दो महीने की अवधि के भीतर पूरी की जानी है और मामला छह महीने के भीतर पूरा किया जाना चाहिए तथा देरी के कारणों को उच्च न्यायालय में सूचित करने की आवश्यकता होगी। जम्मू-कश्मीर बच्चों के प्रति यौन हिंसा संरक्षण अध्यादेश 2018 की मुख्य विशेषताएं यह हैं कि यह एक व्यापक कानून है, जो अन्य बातों के साथ-साथ बच्चों के हितों की सुरक्षा और न्यायिक प्रक्रिया के हर स्तर पर बच्चे के कल्याण की सुरक्षा के लिए यौन उत्पीड़न, यौन उत्पीड़न और अश्लील साहित्य के अपराधों से बच्चों को सुरक्षा प्रदान करता है। 

जयपुर में प्लॉट मात्र 2.40 लाख में call: 09314166166

MUST WATCH

इस अध्यादेश के तहत अपराध और यौन उत्पीड़न से संबंधित राज्य दंड संहिता के विभिन्न प्रावधानों के तहत एक अधिनियम या चूक के लिए वैकल्पिक दंड प्रदान करता है। अध्यादेश में बच्चों के अनुकूल प्रक्रियाओं और रिपोर्टिंग, साक्ष्य की रिकॉर्डिंग, जांच और अपराधों के परीक्षण से संबंधित प्रावधान हैं। यह ऐसे अपराधों के त्वरित परीक्षण के लिए विशेष न्यायालयों की स्थापना से संबंधित प्रावधान भी प्रदान करता है और यह शैक्षिक संस्थानों के लिए बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अनिवार्य बनाता है। उपर्युक्त दो अध्यादेशों के अनुमोदन के अनुसार राज्यपाल ने गृह विभाग द्वारा कड़े प्रवर्तन की सलाह दी है। 

Rochak News Web

More From national

Trending Now
Recommended