संजीवनी टुडे

सुंदर पिचाई: कभी खुद को नहीं पता थी राह, आज दूनिया चलती है उनके 'रस्ते' पर

संजीवनी टुडे 20-01-2018 14:06:14

Google CEO Sundar Pichai says he does not regret firing James Damore

डेस्क। सुंदर पिचाई यानि इंटरनेट की दूनिया का सबसे बड़ा नाम। साल 1972 में तमिलनाडू में जन्मे पिचाई कभी खुद भी इस उधेड़बुन में थे कि करना क्या है लेकिन आज उनके बनाए एप्प पूरी दूनिया में धमाका मचाए हुए है। 2004 में उन्होंने गूगल ज्वाइन किया और फिर कभी पीछे मुडक़र नहीं देखा।

sundar pichai

 यह भी पढ़े: कटरीना कैफ ने सीखा फाइटिंग चलाना, देखे वीडियो

पिचाई को लोकप्रियता तब मिली जब उन्होंने दूनिया को राह दिखाने के लिए गूगल मैप बनाया। हालांकि सुंदर ने गुगल क्रोम और जीमेल भी बनाया था। सुंदर पिचाई रुबा इंक नामक अमरीकी कंपनी के सलाहकार बोर्ड में बतौर सदस्य मनोनीत किए गए थे। सुंदर पिचाई की पत्नी का नाम अंजलि है और इनके दो बच्चों में एक बेटी और दूसरा बेटा है।

sundar pichai

आईआईटी खडग़पुर, स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी, व्हार्टन स्कूल ऑफ बिजनेस। ये वो नामी-गिरामी संस्थान हैं जहां से सुंदर पिचाई ने पढ़ाई की और शायद ये नाम खुद की मेहनत के बल पर उन्होंने तमिलनाडूउ से सिलिकॉन वैली तक सफर तय किया। चेन्नई में पले-बढ़े पिचाई ने वैसे तो आईआईटी में पढ़ाई की मेटलर्जी और मैटेरियल्स की लेकिन इलेक्ट्रॉनिक्स और सॉफ्टवेयर से उनका जबरदस्त जुड़ाव ही था जिसने उन्हें इस मुकाम पर पहुंचा दिया है।

 यह भी पढ़े: कांग्रेस के एमएलसी दीपक सिंह ने की पुलिस अधिकारी के साथ बदतमीजी

sundar pichai

सुंदर पिचाई का जन्म 1972 में भारत के तमिलनाडु राज्य में हुआ था और उनके पिता पेशे से इलेक्ट्रिकल इंजीनियर थे जो एक ब्रितानी कंपनी जीईसी में काम करते थे।  जबकि सुंदर की माँ स्टेनोग्राफर थीं। सुंदर पिचाई की याददाश्त ज़बरदस्त बताई जाती है। कहा जाता है कि जब तमिलनाडु में इनके घर पर 1984 में पहली बार टेलीफ़ोन लगा था, तब सभी रिश्तेदार किसी दूसरे का नंबर भूल जाने पर सुंदर की याददाश्त का सहारा लेते थे।

More From national

loading...
Trending Now
Recommended