संजीवनी टुडे

कोरोना प्रबंधन के लिए गहलोत ने PM मोदी से की वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग करने की गुजारिश

संजीवनी टुडे 02-08-2020 20:54:40

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से कोरोना से मुकाबले के लिए केन्द्र व राज्य सरकारों के बीच आपसी समन्वय तथा तालमेल पर जोर दिया है।


जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से कोरोना से मुकाबले के लिए केन्द्र व राज्य सरकारों के बीच आपसी समन्वय तथा तालमेल पर जोर दिया है। इसके लिए मुख्यमंत्री गहलोत ने पीएम मोदी को प़त्र लिखा है। पत्र में कोरोना के सूचकांकों एवं राज्यों के आर्थिक परिदृश्य में लम्बी अवधि के लॉकडाउन के कारण आए बदलाव और वर्तमान परिस्थितियों के परिप्रेक्ष्य में कोरोना महामारी के प्रबन्धन के सम्बन्ध में राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ शीघ्र संवाद के लिए वीडियो कान्फ्रेसिंग आयोजित करने की गुजारिश की है।

पत्र में गहलोत ने लिखा कि कोरोना महामारी से देश की लड़ाई निर्णायक दौर में पहुंच चुकी है। सभी राज्यों ने अपनी पूर्ण शक्ति, सामर्थ्य एवं संसाधनों से कोरोना महामारी के फैलाव को रोकने का प्रयास किया है। साथ ही इस महामारी से जनित आर्थिक मंदी में अपने जीविकोपार्जन के साधन खो चुके जरूरतमंद लोगों को आर्थिक सम्बल भी प्रदान किया है। 

गहलोत ने लिखा कि पिछले महीनों में प्रधानमंत्री की ओर से राज्यों के मुख्य मंत्रियों के साथ की गई वीडियो कान्फ्रेसिंग के सार्थक संवाद से कोरोना से लडने में मदद मिली है। सहयोगी संघवाद के आदर्शों के अनुरूप होने के साथ-साथ ऐसे संवादों से परस्पर ज्ञान का आदान-प्रदान, विभिन्न राज्यों में अपनाई जा रही बेहतर रणनीति की जानकारी एवं आपसी समन्वय स्थापित करने में सहायता होती है। 

मुख्यमंत्री ने पत्र में बताया कि राजस्थान में कोरोना महामारी के प्रबन्धन का सघन पर्यवेक्षण किया जा रहा है। राजस्थान में 17 जून तक जांच के लिए एकत्रित कुल नमूने 6 लाख 37 हजार थे, जो 1 अगस्त को बढ़कर 15 लाख 26 हजार हो चुके हैं। राजस्थान में राज्य सरकार के प्रयासों से संक्रमित व्यक्तियों की दर 17 जून को 2.12 प्रतिशत थी, जिसे 1 अगस्त तक 2.79 प्रतिशत तक सीमित किया गया है। इन संक्रमित व्यक्तियों में से ठीक होने की दर प्रदेश में 1 अगस्त को 77.29 प्रतिशत रही है। राजस्थान संक्रमित व्यक्तियों की मृत्यु दर को भी कम करने के लिए निरन्तर प्रयासरत हैं। कोरोना महामारी से संक्रमित व्यक्तियों की मृत्यु दर राजस्थान में 17 जून को 2.31 से घटकर 1 अगस्त को 1.62 प्रतिशत हो गई है। राज्य में उपलब्ध प्रतिदिन जांच क्षमता को 22 हजार से बढ़ाते हुए हमने 1 अगस्त को 45 हजार कर लिया गया है। सैम्पल कलेक्शन की संख्या भी 13 हजार से बढ़कर 28 हजार प्रतिदिन हो गई है। साथ ही, हमने प्लाज्मा थैरेपी के माध्यम से भी कोविड-19 की उपचार पद्धति को सुदृढ़ किया है।

मुख्यमंत्री ने लिखा कि आप द्वारा राज्यों के मुख्य मंत्रियों के साथ अंतिम बार 17 जून को किए गए संवाद के बाद स्थितियां कापफी बदली है। ऐसे में कोरोना महामारी के प्रबन्धन के सम्बन्ध में राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ शीघ्र संवाद के लिए वीडियो कान्फ्रेसिंग जरूरी है।

यह खबर भी पढ़े: अब सुशांत आत्महत्या मामले की जांच IPS अधिकारी के जिम्मे, जांच के लिए मुंबई रवाना

यह खबर भी पढ़े: भाजपा नेत्री नीतू सिंह अपने समर्थकों के साथ कांग्रेस में हुई शामिल

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From national

Trending Now
Recommended