संजीवनी टुडे

सुप्रीम कोर्ट से पूर्व विधायक अशोक चंदेल को झटका, जमानत से इनकार

संजीवनी टुडे 15-07-2019 21:12:59

उत्तर प्रदेश के हमीरपुर में 22 साल पहले हुए सामूहिक हत्याकांड के मामले में सोमवार को सुप्रीम कोर्ट की डबल बेंच ने सजायाफ्ता पूर्व विधायक अशोक सिंह चंदेल व डब्बू सिंह को जमानत देने से इनकार कर दिया है।


हमीरपुर। उत्तर प्रदेश के हमीरपुर में 22 साल पहले हुए सामूहिक हत्याकांड के मामले में सोमवार को सुप्रीम कोर्ट की डबल बेंच ने सजायाफ्ता पूर्व विधायक अशोक सिंह चंदेल व डब्बू सिंह को जमानत देने से इनकार कर दिया है। डबल बेंच ने हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती देने वाली अर्जी को भी सुनने से इनकार कर दिया। अब सुप्रीमकोर्ट में अपील की सीधे सुनवाई होगी। उल्लेखनीय है कि 26 जनवरी, 1997 की देर शाम हमीरपुर शहर के सुभाष बाजार स्थित नसीम बन्दूक वाले की दुकान के सामने सामूहिक हत्याकांड हुआ था जिसमें राजीव शुक्ला के बड़े भाई राजेश शुक्ला, राजेश शुक्ला, भतीजा गुड्डा, श्रीकांत पाण्डेय व वेदप्रकाश की निर्मम हत्या हुई थीं। 

इस घटना में राजीव शुक्ला व रविकांत पाण्डेय भी गोली लगने से घायल हुए थे। सामूहिक हत्याकांड में सदर विधायक अशोक सिंह चंदेल, श्याम सिंह पुत्र बीरबल सिंह निवासी सुमेरपुर, साहब सिंह, झंडू सिंह अरख निवासी पचखुरा खुर्द सुमेरपुर, विधायक का ड्राइवर रुक्कू निवाली खालेपुरा हमीरपुर, रघुवीर सिंह, डब्बू सिंह पुत्र रघुवीर सिंह निवासी मुहाल हाथी दरवाजा हमीरपुर, प्रदीप सिंह पुत्र शिवनाथ सिंह निवासी हमीरपुर, उत्तम सिंह, भान सिंह एडवोकेट व नसीम समेत कई नामजद किये गये थे। मुकदमा के दौरान झंडू सिंह अरख की पूर्व में ही मौत हो चुकी है जबकि रुक्कू पूर्व से ही आजीवन कारावास की सजा में हमीरपुर जेल में बंद है। 

सामूहिक हत्याकांड की सुनवाई हाईकोर्ट इलाहाबाद की डबल बेंच में हुई थी, जिस पर 19 अप्रैल, 2019 को भाजपा के पूर्व विधायक समेत नौ दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनायी गयी थी। दोषियों की गिरफ्तारी के लिए गैर जमानती वारंट भी जारी किया गया था। 13 मई को पूर्व विधायक अशोक सिंह चंदेल, रघुवीर सिंह, डब्बू सिंह पुत्र रघुवीर सिंह ने जिला न्यायालय में आत्मसमर्पण किया था जबकि सदर कोतवाल ने सामूहिक हत्याकांड में फरार साहब सिंह, प्रदीप सिंह व उत्तम सिंह को गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया था। अदालत के आदेश पर सभी को उसी दिन जेल भेज दिया गया था। 
पिछले माह सामूहिक हत्याकांड में फरार श्याम सिंह को भी पुलिस गिरफ्तार कर जेल में निरुद्ध कर चुकी है।  शासन के आदेश पर पूर्व विधायक अशोक सिंह चंदेल को हमीरपुर जेल से एक जुलाई की रात आगरा जेल शिफ्ट किया गया था। इसी कांड के सजायाफ्ता कैदी आशुतोष सिंह उर्फ डब्बू सिंह भी फतेहगढ़ जेल स्थानांतरित किये जा चुके है। 

सामूहिक हत्याकांड के वादी राजीव शुक्ला एडवोकेट ने सोमवार शाम बताया कि  पूर्व विधायक अशोक सिंह चंदेल पक्ष की जमानत के लिए प्रार्थना पत्र कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल के पुत्र अमित सिब्बल एडवोकेट व सीनियर एडवोकेट अमरेन्द्र शरण ने सुप्रीमकोर्ट में अपील के साथ दाखिल की थी। इसमें हाईकोर्ट के आजीवन कारावास की सजा को निलम्बित करने की भी मांग की गयी थी। अपने सीनियर अधिवक्ता मीनाक्षी अरोड़ा के हवाले से राजीव शुक्ला एडवोकेट ने बताया कि सुप्रीमकोर्ट में कोर्ट संख्या-14 में अशोक चंदेल बनाम सरकार क्रिमिनल अपील नं.-946-947/2019 की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस मोहन एम एवं एक अन्य जस्टिस ने सजायाफ्ता पूर्व विधायक अशोक सिंह चंदेल व डब्बू सिंह के जमानत देने से मना कर दिया है। डबल बेंच ने कहा कि यह पांच लोगों की हत्या का मामला है, जिसे देख लिया गया है। डबल बेंच से जमानत अर्जी खारिज हो जाने से पूर्व विधायक को तगड़ा झटका लगा है। उन्होंने बताया कि अब अपील की सीधी सुनवाई होगी।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From national

Trending Now
Recommended