संजीवनी टुडे

सरकार के प्रतिनिधि बने पांच डॉक्टरों ने जताई समाधान में असमर्थता

संजीवनी टुडे 15-06-2019 21:50:11

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के प्रतिनिधि के तौर पर राज्य के पांच सीनियर डॉक्टरों ने आंदोलनरत जूनियर डॉक्टरों की समस्याएं सुलझाने में असमर्थता जतायी है।


कोलकाता। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के प्रतिनिधि के तौर पर राज्य के पांच सीनियर डॉक्टरों ने आंदोलनरत जूनियर डॉक्टरों की समस्याएं सुलझाने में असमर्थता जतायी है। शुक्रवार को मुख्यमंत्री ने सीनियर डॉक्टर सुकुमार मुखर्जी, अभिजीत चौधरी, माखनलाल साहा, प्लावन मुखर्जी और अमलेंदु घोष के साथ सचिवालय में विशेष बैठक की थी। उन्होंने इस बैठक के बाद ही जूनियर डॉक्टरों के प्रतिनिधियों को शनिवार शाम पांच बजे सचिवालय में आने के लिए न्योता दिया था। मुख्यमंत्री के पास से निकलने के बाद इन डॉक्टरों ने अनशन कर रहे जूनियर डॉक्टरों से बातचीत की शुरुआत कर दी थी। शुक्रवार शाम से लेकर रात तक इन लोगों ने कोशिश की। शनिवार सुबह से लेकर शाम तक इन लोगों ने भरपूर कोशिश की। राज्य के स्वास्थ्य शिक्षा निदेशक डॉ. प्रदीप मित्रा इन्हें लेकर आंदोलनरत डॉक्टरों के पास एनआरएस अस्पताल भी पहुंचे लेकिन इनकी सारी कोशिशें विफल रहीं। 

जूनियर डॉक्टरों ने स्पष्ट कर दिया कि वे मुख्यमंत्री के साथ बैठक करने के लिए सचिवालय में किसी भी कीमत पर नहीं जाएंगे। इसके बाद देर शाम ये लोग राज्य सचिवालय पहुंचे और मुख्य सचिव मलय दे के पास रिपोर्ट सौंपी। इसमें इन लोगों ने डॉक्टरों को मुख्यमंत्री के साथ बातचीत के टेबल पर लाने में अपनी असमर्थता जाहिर की है। इन लोगों ने कहा कि डॉक्टरों को सचिवालय में लाने में ये लोग असमर्थ हैं। इस समस्या का निदान नहीं कर पाएंगे। एक तरह से कहा जाए तो राज्य सरकार ने इन वरिष्ठ डॉक्टरों को आंदोलनरत डॉक्टरों से बातचीत का जरिया बनाने की कोशिश की थी लेकिन 24 घंटे के अंदर ही इन लोगों ने अपनी असमर्थता जाहिर करते हुए खुद को इससे अलग कर लिया है। इससे राज्य सरकार की मुश्किलें और अधिक बढ़ गई हैं।

मात्र 260000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166 

More From national

Trending Now
Recommended