संजीवनी टुडे

बीते वर्ष में चीनी, अल्कोहल और पर्यटन में आठ करोड़ नौकरी सृजित

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 13-09-2019 17:51:09

विभिन्न योजनाओं, कार्यक्रमों और प्रयासों से चीनी, अल्कोहल और पर्यटन के क्षेत्र में बीते वर्ष आठ करोड़ से अधिकार रोजगार के अवसर सृजित किये गये हैं।


नई दिल्ली। सरकार की विभिन्न योजनाओं, कार्यक्रमों और प्रयासों से चीनी, अल्कोहल और पर्यटन के क्षेत्र में बीते वर्ष आठ करोड़ से अधिकार रोजगार के अवसर सृजित किये गये हैं।

नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत ने आज यहां कारोबार के अनुकूल माहौल बनाने से संबंधित एक रिपोर्ट जारी करते हुए कहा कि चीनी, अल्कोहल और पर्यटन के क्षेत्र में रोजगार के अवसरों में बहुत वृद्धि हुई है। इन तीनों क्षेत्रों में भारत के अग्रणी बनने की व्यापक संभावनायें हैं। यह रिपोर्ट इन तीनों क्षेत्रों पर केंद्रित है। इस रिपोर्ट को गैर सरकारी संगठन पहले इंडिया फाउंडेशन ने तैयार किया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कारोबार के अनुकूल माहौल बनाने से व्यापार में तेजी से बढ़त होगी और अर्थव्यवस्था के विकास में मदद मिलेगी।

यह खबर भी पढ़ें: ​Chandrayaan-2: चांद पर विक्रम के लैंडिंग स्थल की तस्वीरें साझा करेगा NASA

चीनी, अल्कोहल और पर्यटन उद्योग का विश्लेषण करते हुए रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में लगभग साढ़े तीन करोड़ गन्ना किसान हैं। चीनी उद्योग प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रुप से तीन लाख 50 हजार लोगों को रोजगार उपलब्ध कराता है। अल्कोहल उद्योग 15 लाख लोगों को रोजगार देता है। पर्यटन उद्योग कुल मिलाकर 4.2 करोड लोगों को रोजगार देता है।

रिपोर्ट के अनुसार राज्यों को कारोबार के अनुकूल माहौल बनाने के प्रयास करने चाहिए और प्रक्रियाओं को सरल बनाना चाहिए। इससे कारोबार को प्रोत्साहन मिलेगा और रोजगार के अधिक अवसर सृजित होंगे। इसलिये सरकारों को कारोबार के अनुकूल माहौल बनाने के लिए सुधारों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। जिस प्रकार के केंद्र स्तर पर पुराने कानूनों को हटाया जा रहा है उसी प्रकार राज्यों को पुराने कानूनों को समाप्त करना चाहिए।

यह खबर भी पढ़ें: ​तमिलनाडु में मेडिकल छात्र ने खुद को जहर का इंजेक्शन लगाकर की आत्महत्या

चीनी के लिए एक व्यापक नीति की जरुरत बताते हुए रिपोर्ट में कहा गया है कि इससे चीनी के निर्यात को प्रोत्साहन मिलेगा। अल्कोहल क्षेत्र में प्रक्रियाओं के लिए समयसीमा तय करने की आवश्यकता है। पर्यटन को राज्यसूची में शामिल किया जाना चाहिए और ऐसा करने से राज्यों की जिम्मेदारी बढ़ेगी।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From national

Trending Now
Recommended