संजीवनी टुडे

बेहतर सैन्य प्रौद्योगिकी के कारण पाकिस्तान पर भारी पड़ी वायुसेना : धनोआ

संजीवनी टुडे 16-04-2019 02:45:00


नई दिल्ली। वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ ने कहा कि बालाकोट आतंकी अड्डे पर हमले और बाद में पाकिस्तान के युद्धक विमानों से हुई मुठभेड़ में वायुसेना को इसलिए सफलता मिली क्योंकि हमारे पास बेहतर सैन्य प्रौद्योगिकी थी। उन्होंने कहा कि भारतीय सेना को यदि राफेल युद्धक विमान समय पर मिल जाते तो और बेहतर नतीजे मिलते।

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

वायुसेना प्रमुख मार्शल अर्जन सिंह की जन्मशताब्दी के सिलसिले में वायुशक्ति अध्ययन केंद्र में आयोजित एक समारोह में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि बालाकोट ऑपरेशन में वायुसेना को इसलिए सफलता मिल सकी क्योंकि हमारे पास सटीक मार करने वाले मिसाइल थे। बाद में पाकिस्तान के युद्धक विमानों के साथ हुई मुठभेड़ में अपग्रेडेड मिग-22 वाइसन और मिराज-2000 युद्धक विमानों की बदौलत हम दुश्मन पर भारी पड़े। उल्लेखनीय है कि इस मुठभेड़ में मिग-21 वाइसन ने पाकिस्तान को अमेरिका से मिले अत्याधुनिक एफ-16 युद्धक विमान को मार गिराया गया था। धनोआ ने कहा कि यदि हमारे पास राफेल युद्धक विमान होते तो और बेहतर नतीजे होते।

MUST WATCH & SUBSCRIBE

चीफ एयर मार्शल धनोआ ने कहा कि अगले दो चार वर्षों के दौरान जब वायुसेना के बेड़े में राफेल युद्धक विमान आ जाएंगे और देश में मिसाइल विरोधी एस-400 सैन्य प्रणाली स्थापित हो जाएगी तो वायुसेना के लिहाज से दुश्मन के मुकाबले संतुलन हमारे पक्ष में हो जाएगा। उन्होंने कहा कि वर्ष 2002 में संसद पर हमले के बाद शुरू किए गए ऑपरेशन पराक्रम के दौरान भी वायुसैन्य संतुलन भारत के पक्ष में था।

More From national

Loading...
Trending Now