संजीवनी टुडे

डीएसए पुराने कानून के तहत भूमि सुरक्षा के मांग पर अडिग

संजीवनी टुडे 08-12-2018 17:53:16


गंगटोक। डेंजोंग शेरपा एसोसिएशन(डीएसए) आगामी 14 दिसम्बर के दिन पूर्व जिला के सिंगताम बाजार में राज्य स्तरीय 'एक्यबद्धता सभा' आयोजन करने जा रहा है। 19 दिसम्बर से शुरू होने वाले राज्य विधानसभा सत्र में शेरपा समुदाय के भूमि की सुरक्षा रेवेन्यू अर्डर नंबर-1 के तहत करने के लिए विधेयक की मांग करते हुए उक्त सभा आयोजित की गई। 

डीएसए के प्रवक्ता पासांग शेरपा ने प्रेस क्लब में शनिवार को आयोजित पत्रकार सम्मेलन में उक्त जानकारी दी। उन्होंने कहा कि सिक्किम के अल्पसंख्यक भूटिया और लेप्चा समुदाय के शेरपा जाति पर ऐतिहासिक और संवैधानिक अन्याय हो रहा है। इसलिए शेरपाओं के उन्मुक्ति और शेरपा समुदाय की पहचान व अस्तित्व के संघर्ष के प्रति एक्यबद्धता दर्शाने के लिए यह सभा आयोजित की गई है।

पासांग शेरपा ने कहा कि भूटिया और लेप्चा के जमीन की सुरक्षा रेवेन्य अर्डर नम्बर-1 के तहत सुनिश्चित की गई है। जबकि, उसी अल्पसंख्यक समुदाय के एक सदस्य शेरपा को इस अधिकार से वंचित रखा गया है। उन्होंने कहा कि भूटिया और लेप्चा के समान शेरपाओं के जमीन की सुरक्षा भी रेवेन्य अर्डर नंबर-1 के तहत हो, इसलिए सरकार पर दबाव बनाने के लिए यह एक्यबद्धता सभा का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने मांग की कि आगामी विधानसभा सत्र में शेरपाओं के जमीन की सुरक्षा भी रेवेन्य अर्डर नंबर-1 के तहत सुनिश्चित करने के लिए विधेयक लाने की मांग की।

प्रवक्ता शेरपा ने जानकारी दी कि उक्त सभा में राज्य के सभी गैर राजनैतिक संघ संस्थाओं और राज्य के पुराने व्यापारियों को एक्यबद्धता के लिए आमंत्रित किया गया है। एक प्रश्न के जवाब में उन्होंने कहा कि सभी राजनैतिक दल यह दावा करते आ रहे है कि वे राज्य के सभी समुदायों के हित में काम करेंगे। यदि उनका यह दावा सत्य है तो उन्हें उक्त दिन के सभा में अवश्य आना होगा। इसके लिए उन्हें निमंत्रणा भेजने की आवश्यकता नहीं है।

जयपुर में प्लॉट/ फार्म हाउस: 21000 डाउन पेमेन्ट शेष राशि 18 माह की आसान किस्तों में, मात्र 2.30 लाख Call:09314166166
MUST WATCH & SUBSCRIBE

उल्लेखनीय है कि राज्य के भूटिया और लेप्चा के जमीन की सुरक्षा सिक्किम के पुराने कानून 'रेवेन्य अर्डर नंबर 1' के ​तहत सुरक्षित है। इस कानून के तहत भूटिया और लेप्चा के जमीन उनके अलावा अन्य कोई समुदाय खरिद नहीं सकता है लेकिन वे अन्य समुदाय के जमीन खरिद सकते हैं।

sanjeevni app

More From national

Loading...
Trending Now
Recommended