संजीवनी टुडे

इस्तीफा देने के बाद शिवसेना पर जमकर बरसे देवेंद्र फडणवीस, लगाया ये बड़ा आरोप

संजीवनी टुडे 08-11-2019 18:19:06

महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फणनवीस ने राजयपाल को इस्‍तीफा सौंप दिया है। देवेंद्र फणनवीस ने शुक्रवार को राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्‍यरी से मुलाक़ात की। श्री फडणवीस ने कहा कि महागठबंधन टूट गया है, ऐसा हम नहीं कर रहे और जब मतभेद दूर हो जायेंगे तब एक साथ मिलकर सरकार बनायेंगे। उन्होंने कहा कि महागठबंधन को जोड़ने वाला हिंदुत्व का


नई दिल्ली। महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फणनवीस ने राजयपाल को इस्‍तीफा सौंप दिया है। देवेंद्र फणनवीस ने शुक्रवार को राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्‍यरी से मुलाक़ात की।  श्री फडणवीस ने कहा कि महागठबंधन टूट गया है, ऐसा हम नहीं कर रहे और जब मतभेद दूर हो जायेंगे तब एक साथ मिलकर सरकार बनायेंगे। उन्होंने कहा कि महागठबंधन को जोड़ने वाला हिंदुत्व का धागा कायम है। उन्होंने कहा कि हम लोग शुरू से ही कह रहे हैं कि चर्चा के लिए हमारा दरवाजा हमेशा खुला है। पिछले पांच वर्ष शिव सेना सरकार में शामिल रही और उन्होंने कई बार श्री उद्धव ठाकरे से मुलाकात की और कई बार फोन पर भी बात की।

यह खबर भी पढ़े: अयोध्यावासियों को SC की और से सुनहरी किरणें दिखायी पड़ रही है

इधर कुछ दिनों में उन्होंने कई बार श्री ठाकरे से बात करने की कोशिश की लेकिन श्री ठाकरे फोन पर नहीं आये। उन्होंने शिव सेना पर आरोप लगाते हुए कहा कि शिव सेना सरकार में शामिल होने के बावजूद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की बार-बार आलोचना करती रही जिसे वे लोग सहन नहीं करेंगे। यदि शिव सेना विपक्ष में होती और आलोचना करती तब तो बात समझ में आती लेकिन सरकार में शामिल होकर इस तरह की आलोचना ठीक नहीं। उन्होंने कहा कि जितनी आलोचना शिव सेना ने की, उतनी आलोचना तो विपक्षी दल वाले भी नहीं करते।

यह खबर भी पढ़े: अयोध्या फैसले से पहले प्रशासन को पूरी तरह से अलर्ट रहने के निर्देश, असमाजिक तत्वों पर कड़ी निगरानी

उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दिनों से शिव सेना की भाषा पर गौर करें। ऐसा नहीं कि वह उत्तर देने में असमर्थ हैं लेकिन वह अपनी मर्यादा का उल्लंघन नहीं करना चाहते। उनकी पार्टी से किसी ने भी शिव सेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के खिलाफ कोई बयान नहीं दिया, वह उनका सम्मान करते हैं। श्री फडणवीस ने ढाई-ढाई वर्ष तक मुख्यमंत्री बनाये जाने की शिव सेना के फार्मूले को खारिज करते हुए कहा कि इस तरह का कोई निर्णय उनके समक्ष नहीं हुआ।

उन्होंने कहा कि शिव सेना को भाजपा और अन्य मित्र पार्टियों के साथ सरकार बनाने के संबंध में बात करने के लिए समय नहीं मिला जबकि कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी से कई बार मुलाकात कर चुकी है। शिव सेना की ओर से सरकार बनाने के संबंध में अभी तक कोई पहल नहीं हुयी है। उन्होंने कहा कि जनता पर नया चुनाव लादने की बजाय सरकार बने तो बहुत अच्छी बात है और इस संबंध में भाजपा का प्रयास जारी रहेगा।

यह खबर भी पढ़े: आज होगी सिर्फ चंद घंटों में 100 करोड़ की धनवर्षा

उन्होंने कहा कि जनता द्वारा आशीर्वाद देने के बावजूद महागठबंधन सरकार नहीं बना पा रही, इसका हमें दुख है लेकिन हम यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि सरकार महगठबंधन की ही बनेगी। उन्होंने कहा कि पिछले पांच में हमने जनता की सेवा पारदर्शी तरीके से की और चार वर्ष राज्य के कई हिस्सों में सूखे की चपेट में रहा और इस वर्ष अधिक बारिश के कारण फसल खराब हो गयी। हमारी सरकार ने पिछले पांच वर्ष में सड़कें और मेट्रो के कई काम शुरू किये तथा पहले से लंबित कई काम पूरे किये। उन्होंने कहा कि पिछले पांच वर्ष में हमारी सरकार ने बहुत बढ़िया विकास का काम किया लेकिन इसके बावजूद भी अभी बहुत काम करना बाकी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From national

Trending Now
Recommended