संजीवनी टुडे

गुनाह कबूल के करने बावजूद भी चिन्‍मयानंद पर नहीं लगाई गई रेप की धारा!, उल्टा लड़की पर दर्ज़ किया ऐसा मुकदमा

संजीवनी टुडे 20-09-2019 22:36:41

स्‍वाती चिन्‍मयानंद को आखिरकार एसआईटी ने उनके आश्रम से गिरफ्तार कर लिया।


लखनऊ। उत्तर प्रदेश में शाहजहांपुर के चर्चित छात्रा रेप मामले में शुक्रवार को विशेष जांच दल (एसआईटी) ने पूर्व गृह राज्य मंत्री स्वामी चिन्मयानंद को गिरफ्तार कर लिया। SIT ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया लेकिन उनके ऊपर रेप का केस नहीं दर्ज किया। जबकि आरोप लगाने वाली लड़की के खिलाफ एसआईटी ने चिन्‍मयानंद को ब्‍लैकमेल कर 5 कारोड़ की फिरौती मांगने का केस दर्ज कर उसके तीन साथियों को जेल भेज दिया है। लड़की की गिरफ्तारी अभी नहीं हुई है। आरोप लगाने वाली लड़की ने इस पर हैरत जताई है। 

यह खबर भी पढ़े: आख़िरकार चिन्मयानंद ने कबूल कर ही लिए सारे आरोप, SIT से बोले- मैं मेरे कार्यों से शर्मिंदा हूं

स्‍वाती चिन्‍मयानंद को आखिरकार एसआईटी ने उनके आश्रम से गिरफ्तार कर लिया। उनका मेडिकल कराया गया, फिर उन्‍हें अदालत में पेश किया गया जहां से वो 14 दिन की न्‍यायिक हिरासत में भेज दिए गए। एसआईटी का कहना है कि उन्‍होंने रेप के अलावा बाकी सारे गुनाह कबूल कर लिए हैं। 

सूत्रों के मुताबिक, एसआईटी प्रमुख नवीन अरोड़ा ने कहा, 'स्‍वामी ने लगभग वो सारी चीजें स्‍वीकार कर ली हैं जो आरोप लगे हैं और जैसे उन्‍होंने अपनी मौजूदगी स्‍वीकारी, उन्‍होंने अश्‍लील बातचीत करना स्‍वीकारा, उन्‍होंने बॉडी मसाज करना स्‍वीकारा, यहां तक उन्‍होंने पूर्ण रूप से स्‍वीकार लिया है। हालांकि, चिन्‍मयानंद पर रेप की बजाय आईपीसी की दफा 376सी के तहत केस दर्ज हुआ है जिसमें उनके ऊपर उनके लॉ कॉलेज में अपनी पोजिशन का इस्‍तेमाल कर लड़की को फुसला कर जिस्‍मानी रिश्‍ते बनाने का आरोप है। 

यह खबर भी पढ़े:चंद्रयान-2: लगातार टूटती जा रही है 'लैंडर विक्रम' से संपर्क की उम्मीदें, अब बचा है मात्र 1 दिन, जानिए आगे क्या होगा?

चिन्‍मयानंद पर इल्‍जाम लगाने वाली इससे नाखुश है। आरोप लगाने वाली लड़की का कहना है, 'जब मैं यहां पर एसआईटी के सामने 161 का बयान देने गई थी, मैंने उस दिन बता दिया था कि मेरे साथ रेप हुआ है, किस तरीके से हुआ है, सबकुछ बताया था। इसके बावजूद चिन्‍मयानंद पर 376सी लगाई गई, जिस चीज का डर था वही हुआ। 

दरअसल, एसआईटी कहती है कि चिन्‍मयानंद लड़की से रेप करने के सवाल पर जवाब नहीं देते। एफआईआर दर्ज से कोई आरोप साबित नहीं होता, लेकिन एसआईटी ने रेप की एफआईआर क्‍यों नहीं की ये साफ नहीं। चिन्‍मयानंद को 5 करोड़ की फिरौती के लिए ब्‍लैकमेल करने के इल्‍जाम में एसआई ने आरोप लगाने वाली लड़की और उसके तीन साथियों संजय सिंह, विक्रम सिंह और सचिन सेंगर पर भी मुकदमा दर्ज किया है। तीनों साथियों को गिरफ्तार कर पुलिस ने जेल भेज दिया लेकिन लड़की को अभी गिरफ्तार नहीं किया है। एसआईटी का कहना है कि केस को ठीक से साबित करने लिए वे उन सबूतों को फिर जुटाने की कोशिश कर रही है जो मिटा दिए गए हैं। 

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From national

Trending Now
Recommended