संजीवनी टुडे

लोक मान्य तिलक की 100वीं पुण्यतिथि मानाने की सरकार से मांग

इनपुट - यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 01-08-2019 19:09:29

भारतीय जनता पार्टी के विनय सहस्त्रबुद्धे ने गुरूवार को राज्यसभा में लोकमान्य मान्य तिलक की


नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के विनय सहस्त्रबुद्धे ने गुरूवार को राज्यसभा में लोकमान्य मान्य तिलक की स्मृति शताब्दी और मराठी के प्रख्यात दलित लेखक एवं समाज सुधारक अन्ना भाऊ साठे की जन्म शताब्दी मानाने की सरकार से मांग की .श्री सहस्त्रबुद्धे ने कहा कि आज तिलक की पुण्यतिथि है और अगले साल उनकी सौंवी पुण्यतिथि होगी। इस तरह आज से उनकी स्मृति शताब्दी शुरू हो रही है। इसी तरह प्रसिद्ध लेखक नाटक कार दलित साहित्य के पुरोधा की आज जयंती है और आज से उनकी जन्मशती शुरू हो रही है। 

उन्होंने कहा कि तिलक ने उस ज़माने में स्त्रियों और पुरुषों की समानता की बात कही थी जब यह विमर्श शुरू भी नहीं हुआ था। उन्होंने कहा कि उनके जन्म स्थल रत्नागिरी का विकास होना चाहिए और मुम्बई के चौपाटी में स्मारक बनाना चाहिए जहाँ उनका अंतिम संस्कार हुआ था। .उन्होंने कहा कि श्री साठे ने 35 उपन्यास, 14 लोक नाटक, तीन नाटक तथा 13 कथा संग्रह लिखे हैं। वे उपेक्षितों के स्वर थे। उन्होंने जाति संघर्ष के लिए भी काम किया था। उनकी स्मृति में साहित्य अकादमी में दलित साहित्य पीठ की स्थापना होनी चाहिए। 

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब चैनल

उल्लेखनीय है कि बाल गंगाधर तिलक के नाम से प्रसिद्ध श्री केशव गंगाधर तिलक 23 जुलाई 1856 को महाराष्ट्र के रत्नागिरी में हुआ था और उनका निधन एक अगस्त 1920 को मुंबई में हुआ था। वहीं श्री साठे जन्म एक अगस्त 1920 महाराष्ट्र के वाटेगांव में हुआ था जबकि निधन 18 जुलाई 1969 को मुंबई में हुआ था।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

yhjy

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From national

Trending Now
Recommended