संजीवनी टुडे

कॉरपोरेट टैक्स में छूट, RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा- यह एक कड़ा निर्णय

संजीवनी टुडे 20-09-2019 13:40:45

गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि इससे कॉरपोरेट को फायदा होगा। इन छूट से कंपनीज को फायदा होगा। इससे विदेशी इंवेस्टमेंट आएगा। यह एक कड़ा निर्णय है। इससे लोगों को फायदा होगा। वहीं कोई समस्या आएगी तो उसे सरकार सुधारेगी। ग्रोथ के लिए कई सेक्टर जुड़े हुए हैं। बैंकिंग, इंडस्ट्री को फायदा देने से सभी को फायदा होता है। इससे निवेश बढ़ता है। निवेश बढ़ने से कंपनी के साथ-साथ देश को भी फायदा होता है।


नई दिल्ली। देश की अर्थव्यवस्था की सुस्त पड़ी रफ्तार को गति पकड़ने के प्रयासों के तहत वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कॉरपोरेट टैक्स में छूट का ऐलान किया है। 

इस ऐलान पर रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि इससे कॉरपोरेट को फायदा होगा। इन छूट से कंपनीज को फायदा होगा। इससे विदेशी इंवेस्टमेंट आएगा। यह एक कड़ा निर्णय है। इससे लोगों को फायदा होगा। वहीं कोई समस्या आएगी तो उसे सरकार सुधारेगी। ग्रोथ के लिए कई सेक्टर जुड़े हुए हैं। बैंकिंग, इंडस्ट्री को फायदा देने से सभी को फायदा होता है। इससे निवेश बढ़ता है। निवेश बढ़ने से कंपनी के साथ-साथ देश को भी फायदा होता है। 

यह भी पढ़े: आर्टिकल 370 पर केंद्र को नोटिस, सुप्रीम कोर्ट ने जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड से भी मांगी रिपोर्ट

वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) परिषद की शुक्रवार को होने वाली बैठक से पहले केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने संवाददाता सम्मेलन में यह ऐलान किए। इन ऐलानों के बाद शेयर बाजारों में दिवाली से करीब सवा महीने पहले ही रौनक आ गई और बाम्बे शेयर बाजार का सेंसेक्स और नेशनल स्टाक एक्सचेंज के निफ्टी झूम उठे।

अर्थव्यवस्था की रफ्तार और निवेश बढ़ाने के लिए आयकर कानून में चालू वित्त वर्ष से बदलाव किया जायेगा। घरेलू कंपनियां यदि किसी प्रकार की रियायत नहीं लेती हैं तो उनको 22% आयकर देना होगा। उपकर और प्रभार मिलाकर यह 25.17% हो जायेगा। पहले यह दर 30% थी ।

सीतारमन ने बताया कि सरकार के इस फैसले से एक लाख 45 हजार करोड़ रुपए के राजस्व का भार पड़ेगा। उन्होंने बताया कि ‘मेक इन इंडिया’ को तेज गति देने के लिए आयकर विभाग में एक नया प्रावधान किया गया है। चालू वित्त वर्ष में एक अक्टूबर के बाद से अस्तित्व में आई घरेलू कंपनी जो विनिर्माण में निवेश करेगी उसे केवल 15% की दर से आयकर का विकल्प होगा। इस अर्थ यह हुआ कि इस वर्ष एक अक्टूबर या उसके बाद देश में गठित किसी भी कंपनी पर 15% ही कर लगेगा। यदि यह कंपनी 31 मार्च 2023 से पहले उत्पादन शुर कर देती है तो 15% कर लगेगा और सभी प्रकार के प्रभार और उपकर समेत कर 17.10% होगा।

 

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From national

Trending Now
Recommended