संजीवनी टुडे

कोरोना वायरस: सफल हुए सरकार के प्रयास, चीन से वापस आ रहे हैं भारतीय

संजीवनी टुडे 26-02-2020 22:40:22

कई बार के इंकार के बाद भारत सरकार के दवाब के चलते अंततः चीन सरकार झुकी और कोरोना वायरस के कारण चीन में फंसे भारतीयों को विशेष विमान से भारत लाने की भारतीय योजना को स्वीकृति मिल गयी।


नई दिल्ली। कई बार के इंकार के बाद भारत सरकार के दवाब के चलते अंततः चीन सरकार झुकी और कोरोना वायरस के कारण चीन में फंसे भारतीयों को विशेष विमान से भारत लाने की भारतीय योजना को स्वीकृति मिल गयी। इस स्वीकृति के बाद वुहान में कोरोना वायरस के कहर की कैद में फंसे जलेसर के यादव दंपती को सहित कई भारतीय विशेष विमान से दंपती उड़ान भरने वाले हैं। आशीष के अनुसार फिलहाल एयरपोर्ट पर उनकी स्क्रीनिंग की जा रही है।

चीन सरकार की मंजूरी मिलने के बाद भारतीय दूतावास की मदद वहां फंसे भारतीयों तक पहुंच गई है। अब कुछ ही घंटों में विमान उन्हें लेकर दिल्ली पहुंचेगा। यहां उन्हें आइसोलेशन सेंटर में जांच के लिए रखा जाएगा। इसके बाद जलेसर स्थित अपने घर पहुंचेंगे। चीन के वुहान वुहान टेक्सटाइल यूनिवर्सिटी में एसोसिएट प्रोफेसर डॉ आशीष और उनकी पत्नी नेहा कोरोना वायरस के कारण पिछले 22 जनवरी से यूनिवर्सिटी कैम्पस में अपने आवास  में कैद होकर रह गए थे। 

आशीष मूलतः जलेसर के निवासी हैं। उनके माता-पिता लगातार केंद्र सरकार से अपने बच्चों की वापसी की गुहार लगा रहे थे। पिछले दिनों सांसद हरनाथसिंह यादव, राजवीर सिंह राजू व प्रो एसपी सिंह बघेल ने भी विदेश मंत्रालय जाकर दंपति को वापस लाने की बात की थी। 

बीते 19 फरवरी से उम्मीद बन रही थी कि दंपति अब वापस आ जाएंगे। लेकिन चीन सरकार की अनुमति न मिलने के कारण भारतीय दूतावास का चीन में फंसे भारतीयों की मदद करना संभव नहीं हो पा रहा था।

 बुधवार को चीन सरकार की मंजूरी मिलने के बाद दोपहर 4.00 बजे (भारतीय समय के अनुसार 1.30 बजे) उन्हें भारतीय दूतावास से भेजे गए वाहन द्वारा घर से पिकअप किया गया है। 

कल ही मिल गया था संदेश-
यूं मंगलवार को भारतीय दूतावास के अधिकारियों ने इन फंसे हुए भारतीयों के वाट्सएप ग्रुप पर संदेश भेजा था। जिसमें बुधवार को विमान के भारत के लिए उड़ान भरने की उम्मीद जताई थी। संदेश में कहा गया था कि दूतावास के अधिकारी चीन सरकार के संपर्क में हैं और बुधवार को उन्हें विमान के उड़ान भरने की अनुमति मिल सकती है। 

इस संदेश के बाद एक माह से यूनिवर्सिटी कंपाउंड में बने अपने फ्लैट में कैद होकर रह गए यादव दंपती ने राहत की सांस ली। वे कोरोना के डर के घर से बाहर नहीं निकल पा रहे थे। मंगलवार को डॉ. आशीष ने फोन पर बताया कि दूतावास के अधिकारियों ने कहा है कि लौटने की स्थिति स्पष्ट होते ही वो चार घंटे पहले सूचित करेंगे। 

 प्रोफेसर आशीष यादव ने सोशल मीडिया पर भेजे अपने संदेश में कहा है कि वे एयरपोर्ट पहुंच गए हैं तथा इस समय उनकी स्क्रीनिंग हो रही है। उन्होंने उम्मीद जताई है कि वे अन्य भारतीयों के साथ गुरुवार देर रात अपने देश में होंगे।

यह खबर भी पढ़े: केजरीवाल ने कहा- मैं फिर से गृहमंत्री से अपील करता हूँ दिल्ली में हालात को काबू करने के लिए सेना...

यह खबर भी पढ़े: शहीद हेड कांस्टेबल रतनलाल के परिजनों को दिल्ली सरकार देगी 1 करोड़ का मुआवजा

मात्र 289/- प्रति sq. Feet में जयपुर में प्लॉट बुक करें 9314166166

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From national

Trending Now
Recommended