संजीवनी टुडे

प्रधानमंत्री के नेतृत्व में समय रहते कोरोना को किया नियंत्रितः शिवराज

संजीवनी टुडे 05-04-2020 10:39:08

मुख्यमंत्री ने दूरदर्शन पर प्रदेश की जनता दिया संदेश, कहा-लड़ाई कठिन है, पर पूरी ताकत से लड़ेंगे और जीतेंगे


भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार रात आठ बजे से दूरदर्शन के जरिये प्रदेश की जनता को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पहले ही कोरोना संकट को पहचान लिया तथा देश में लॉकडाउन व्यवस्था प्रारंभ कर दी। उनकी दूरदर्शिता का परिणाम है कि समय रहते हमने देश में कोरोना संक्रमण को नियंत्रित कर लिया। जहां इटली, स्पेन, अमेरिका जैसे देश भयानक संकट से गुजर रहे हैं, वहीं भारत की स्थिति बेहतर है। मोदीजी ने कोरोना के खिलाफ जंग में सारे देश को एकसूत्र में बांध दिया। उन्होंने कहा कि लड़ाई कठिन है, लेकिन हम पूरी ताकत से इससे लड़ेंगे और जीतेंगे।

उन्होंने कहा कि 23 मार्च की रात 9 बजे शपथ लेने के बाद मैंने सबसे पहला काम कोरोना के संबंध में बैठक लेने का किया। पूरा शासन, प्रशासन कोरोना के खिलाफ लड़ाई में जुट गया। हमारे डॉक्टर्स, नर्स, पैरामेडिकल स्टाफ, पुलिस, विभिन्न विभागों के अधिकारी, कर्मचारी और पत्रकार जान हथेली पर रखकर लोगों की जिंदगी बचाने में लगे हैं। जनता के सहयोग से प्रधानमंत्री के लॉकडाउन के आह्वान को पूरी तरह से सफल बनाया गया है।

हम अपने हौसले से कोरोना को हराएंगे

उन्होंने कहा कि कोरोना के योद्धाओं के साथ दुर्व्यवहार और पथराव जैसी शर्मनाक घटना इंदौर में हुईं। हमने इसे गंभीरता से लेकर संबंधितों के विरूद्ध रासुका के अंतर्गत कार्यवाही की। हमारे अमले का हौसला कम नहीं हुआ तथा दूसरे दिन पुन: वहीं कार्य करने पहुँच गए। हम अपने हौसले से कोरोना को हराएंगे।

बताया घर पर मास्क बनाना

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम सभी प्रदेशवासी प्रधानमंत्री द्वारा लॉकडाउन के रूप में खींची गई लक्ष्मण रेखा को पार नहीं कर रहे हैं। प्रदेश में कोरोना से बचाव और इलाज की हर संभव व्यवस्था की गई है। हमारी कोरोना टेस्टिंग की क्षमता वर्तमान में 500 है, जिसे बढ़ाकर अतिशीघ्र 1000 कर लिया जाएगा। कोरोना से बंचाव के लिए पहने जाने वाले पीपीई किट्स अब हम मध्यप्रदेश में बना रहे हैं। इसे भारत सरकार ने मान्यता दी है। मास्क, दवाओं आदि की कमी नहीं है। हमारे स्व-सहायता समूह मास्क बना रहे है। यदि किसी स्थिति में मास्क उपलब्ध नहीं हो पाता है, तो घर पर ही मास्क बना लें। सूती कपड़े को तीन फोल्ड करें तथा मास्क बना लें। उन्होंने अपने गमछे से तीन फोल्ड मास्क बनाकर बताया।

मजदूरों की भोजन, आवास व्यवस्था

उन्होंने कहा कि हमारे जो मजदूर भाई-बहन दूसरे प्रदेशों में लौटे हैं, सरकार उन सबकी भोजन, आवास, जाँच, दवाईयों आदि की व्यवस्था कर रही है। ग्रामीण क्षेत्र में हम इस महामारी से अभी दूर हैं। सरकार द्वारा लगभग 1 करोड़ 46 लाख गरीबों के लिए तीन माह के मुफ्त राशन की व्यवस्था की गई है। प्रदेश के ऐसे 30 लाख परिवार, जिनके पास राशन कार्ड नहीं है, उन्हें भी विशेष 'कोरोना कोटा' के अंतर्गत 2 माह का राशन प्रदान किया जा रहा है। निर्माण श्रमिकों के खातों में और बाहर के मजदूरों को भी 1-1 हजार रुपये की राशि दी जा रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि 'हम सब भारत के हैं लाल, भेदभाव का नहीं सवाल'।

मुख्यमंत्री ने विद्यार्थियों से कहा कि प्रदेश में कक्षा 1 से 8 तक जनरल प्रमोशन दिया जा रहा है तथा कक्षा 10वीं एवं 12वीं की परिक्षाएँ बाद में की जाएंगी। उनके लिए रेडियो स्कूल कार्यक्रम भी प्रारंभ किया गया है।

15 अप्रैल से फसल खरीदी व्यवस्था

मुख्यमंत्री ने किसानों से कहा कि उन्हें कृषि कार्यों के लिए हार्वेस्टर, कृषि उपकरण, आसानी से उपलब्ध हो जाएंगे। किसान अपनी फसल बिना किसी बाधा के काट सकेंगे, परन्तु उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। उनकी फसल की खरीदी की व्यवस्था भी आगामी 15 अप्रैल से की जा रही है। उनकी पूरी फसल खरीदी जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार हमेशा अपने अधिकारियों-कर्मचारियों का पूरा ध्यान रखती है। प्रधानमंत्री ने स्वास्थ्य कर्मियों के लिए 50 लाख तक का बीमा घोषित किया है। प्रदेश सरकार स्वास्थ्य विभाग के अलावा भी कोरोना संकट से लड़ने वाले सरकारी अमले को किसी अनहोनी होने पर 50 लाख की राशि का प्रावधान कर रही है।


सारी दुनिया हमारा परिवार

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी संस्कृति 'वसुधैव कुटुम्बकम्' की है। हम सभी को अपना भाई मानते हैं। दुनिया एक परिवार है। कोरोना की लड़ाई इंसान को बचाने के लिए की जा रही है। हम सब मिलकर दुनिया को इस संकट से बचाएंगे। उन्होंने कहा कि 5 अप्रैल को सारे प्रदेशवासी प्रधानमंत्री के रात्रि 9 बजे से 9 बजकर 9 मिनट तक अपने-अपने घरों की बालकनी और दरवाजों में दिए, मोमबत्ती अथवा मोबाइल फ्लैश लाइट जलाने के आह्वान को सफल बनाएं। इस समय घर की लाइट बंद करनी है, परन्तु अन्य यंत्र चल सकते हैं। हमें अंधकार से प्रकाश की ओर जाना है। कोरोना के अंधेरे से सबको मिलकर लड़ना है।

यह खबर भी पढ़े: उत्तरप्रदेश: समझाने से नहीं समझ रहे लोग तो सख्त हुई पुलिस, कई लोगों पर मुकदमा दर्ज

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From national

Trending Now
Recommended