संजीवनी टुडे

टांडा दुष्कर्म मामले पर भाजपा नेताओं के आरोपों को कांग्रेस ने बताया राजनीतिक स्टंट

संजीवनी टुडे 24-10-2020 18:49:17

पंजाब के होशियारपुर में दुष्कर्म की घटना को लेकर आरोप-प्रत्यारोप दौर जारी है।


नई दिल्ली। पंजाब के होशियारपुर में दुष्कर्म की घटना को लेकर आरोप-प्रत्यारोप दौर जारी है। एक ओर जहां भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेताओं ने राहुल और प्रियंका गांधी के टांडा दुष्कर्म मामले में चुप्पी साधने पर सवाल उठाया है तो वहीं महिला कांग्रेस अध्यक्ष सुष्मिता देव ने भाजपा नेताओं पर मुद्दों का राजनीतिकरण करने का आरोप लगाया है।

सुष्मिता देवा ने पंजाब के होशियारपुर टांडा गांव में बिहार के दलित प्रवासी मजदूर की छह साल की बेटी से दुष्कर्म मामलों को दुखद बताते हुए कहा कि इस प्रकार की घटना देश के किसी भी कोने में हो गलत है। ऐसे मामलों में पीड़ित परिवार को न्याय और मदद तथा दोषियों को जल्द सजा दिलाने का काम किया जाना चाहिए। पंजाब सरकार ने इस मामले में ऐसा किया भी है। घटना के 36 घंटे के अंदर दोषियों को गिरफ्तार किया गया और उनके खिलाफ तमाम धाराओं के साथ पॉक्सो एक्ट भी लगाया गया है।

वहीं पूरे मामले में भाजपा के तीन बड़े नेताओं निर्मला सीतारमण, प्रकास जावड़ेकर और डॉ हर्षवर्धन के बयानों की निंदा करते हुए महिला कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि हाथरस की घटना के बाद पहली बार इन्होंने महिला सुरक्षा के मुद्दे पर कुछ कहा है। लेकिन दुख इस बात का है कि इनकी मंशा पीड़ित या उसके परिवार को न्याय दिलाना अथवा संवेदना जताना नहीं था, बल्कि उनकी सारी कोशिश कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के हाथरस जाने के मामले को उछालना था। उस पर सबसे गंभीर बात यह है कि इनके मुख से महिला सुरक्षा पर कुछ निकला भी तो बिहार चुनाव को देखते हुए। क्या ये नेता बताएंगे कि इससे पहले की घटनाओं पर इन्होंने चुप्पी क्यों साध रखी थी।

कांग्रेस नेता ने कहा कि बलात्कार एक ऐसा मुद्दा है जो किसी भी राज्य में हो या वहां कोई भी सरकार हो सभी को दुख होता है। दुष्कर्म की घटनाओं ने बार-बार देश के सम्मान को चोट पहुंचाई है। ऐसे में किसी भी दल को राजनीति करने के बजाय दुख की घड़ी में परिवार के साथ खड़े होना चाहिए। लेकिन यहां ये नेता न तो पंजाब में उक्त परिवार के पास पहुंचे और ना ही उन्होंने संवेदना जताई। उन्होंने सिर्फ प्रेसवार्ता कर कांग्रेस नेताओं द्वारा पीड़ित परिवार तक पहुंचने के राजधर्म की आलोचना की। उन्होंने पूछा कि आखिर हाथरस के वक्त आप कहा था.. उन्नाव में जब बेटी के साथ ज्यादती हुई तो आप कहां थे.. आज आपने जब टांडा मामले में मुंह खोला भी है तो सिर्फ राजनीतिकरण के लिए।

राहुल और प्रियंका गांधी के हाथरस जाने के मामले पर सुष्मिता देव ने कहा कि वो सिर्फ बलात्कार की घटना की वजह से हाथरस नहीं गए थे। बल्कि वो तब गए जब पीड़ित परिवार को उत्तर प्रदेश सरकार, वहां के पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की तरफ से न्याय मिलने की जगह डराया-धमकाया गया। ऐसी स्थिति में हर विपक्षी दल का राजधर्म बनता है कि वो पीड़ित परिवार तक पहुंचे और उनकी बातों को सुने। यहां काम कांग्रेस के नेताओं के साथ समाजवादी पार्टी, तृणमूल कांग्रेस एवं अन्य विपक्षी दलों ने किया।

यह खबर भी पढ़े: भाजपा सांसद रवि किशन ने कहा, मोदी और योगी के नेतृत्व में हो रहा ऐतिहासिक विकास

यह खबर भी पढ़े: Bihar Election: मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा, कोरोना फ्री वैक्सीन पर हर भारतीय का अधिकार

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From national

Trending Now
Recommended