संजीवनी टुडे

नागरिकता संशोधन कानून सावरकर के सिद्धांतों के खिलाफ: ठाकरे

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 16-12-2019 11:51:03

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने रविवार को कहा कि नया नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) स्वतंत्रता सेनानी और राष्ट्रीय व्यक्तित्व विनायक दामोदर सावरकर के विचारों के खिलाफ है।


नागपुर। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने रविवार को कहा कि नया नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) स्वतंत्रता सेनानी और राष्ट्रीय व्यक्तित्व विनायक दामोदर सावरकर के विचारों के खिलाफ है।

राज्य विधायिका के शीतकालीन सत्र की पूर्व संध्या पर एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए ठाकरे ने आरोप लगाया कि सीएए जैसे मुद्दों को महिलाओं की सुरक्षा, बेरोजगारी और किसान संकट जैसे वास्तविक मुद्दों से लोगों का ध्यान हटाने के लिए उठाया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने वीर सावरकर मुद्दे का जिक्र करते हुए आश्चर्य जताया कि क्या सीएबी किसी विचारधारा पर आधारित आधारित है। हिंसा का क्या जो उस पर भड़की है?

यह खबर भी पढ़ें:​ PAN-Aadhaar को 31 दिसंबर तक नहीं कराया लिंक तो हो जाएगा बेकार, क्या कहा Income Tax विभाग ने?

उन्होंने कहा, “सावरकर के लिए हमारे विचार हमेशा वही रहे हैं जो पहले थे और भविष्य में भी वही रहेंगे। लेकिन जो लोग इस नए नागरिकता संशोधन कानून को लाए हैं, वे पूरी तरह से सावरकर के सिद्धांतों के खिलाफ हैं।”

मुख्यमंत्री ने फिर से दोहराया कि एक स्वतंत्रता सेनानी के रूप में सावरकर ने सुझाव दिया था कि देश सिंधु नदी से कन्याकुमारी तक एकजुट रहेगा।

उन्होंने पूछा, “अगर आप सावरकर पर विश्वास करते हैं, तो जब आप पिछले पांच वर्षों से सत्ता में हैं, तो आपने देश को एकजुट करने के लिए क्या किया है।”

यह खबर भी पढ़ें:​ राहुल के बयान पर पलटवार करते हुए BJP नेता ने कहा- वीर सावरकर के बाल के बराबर भी नहीं, नाम लेने की भी इजाजत नहीं

ठाकरे ने स्पष्ट किया कि सरकार इस दिशा में कदम उठा रही है। राज्य में विकास कार्यों को रोकने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने अपनी सरकार के खिलाफ सभी आरोपों से इनकार किया और कहा कि उन्होंने कोई भी विकास कार्य नहीं रोका है।

राज्य में शीतकालीन सत्र सोमवार से नागपुर में आयोजित किया जा रहा है और इसका समापन 21 दिसंबर को होगा।

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From national

Trending Now
Recommended