संजीवनी टुडे

रेलवे पर बोले चौधरी, ‘चटाई है नहीं और सोने के लिए तम्बू की फरमाइश हो रही’

संजीवनी टुडे 11-07-2019 18:30:26

कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने गुरुवार को कहा कि सरकार रेलवे के मामले में देश के लोगों को सपने दिखा रही है।


नई दिल्ली। कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने गुरुवार को कहा कि सरकार रेलवे के मामले में देश के लोगों को सपने दिखा रही है। उन्होंने कहा कि रेलवे की वर्तमान स्थिति में सरकार 50 लाख करोड़ जुटाना चाहती है। यह वैस ही है जैसे ‘रात में सोने की चटाई नहीं है और तम्बू की फरमाइश हो रही है।’लोकसभा में चर्चा के दौरान कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि रेल मंत्री रेलवे के विस्तार के लिए 50 लाख करोड़ रुपये का निवेश करना चाहते हैं, लेकिन इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि पैसा कहां से आएगा। बजट में इसका कोई प्रावधान नहीं किया गया है।

चौधरी ने रेलवे की अनुदान मांगों पर चर्चा के दौरान कहा कि कांग्रेस पार्टी एक नीति के तहत निजीकरण चाहती थी, लेकिन भाजपा सरकार बिना किसी नीति के निजीकरण कर रही है। उन्होंने कहा कि नागरिक उड्डयन मंत्रालय एयर इंडिया को बेचना चाहता है, रेलवे मंत्रालय रेल को बेचना चाहता है और एक दिन प्रधानमंत्री देश को बेच देंगे।उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने वाराणसी में वादा किया था कि रेलवे का निजीकरण नहीं किया जाएगा। उनके वादा भी रेलवे ने पूरा नहीं किया। इस बारे में सचेत करते हुए उन्होंने कहा कि रेलमंत्री का पद ‘म्युजिकल चैयर’ (अस्थाई पद) है।   

कांग्रेस नेता ने कहा कि वर्तमान में रेलवे 100 रुपये कमाने के लिए 98.4 रुपये खर्च करता है। सरकार के इतने वादों के बावजूद भी इसमें कोई अंतर नहीं आया है। सरकार ने कई विषयों को लेकर एमओयू और एओसी पर हस्ताक्षर किए हैं, लेकिन इनमें से कोई भी जमीन पर नहीं उतरा है। उन्होंने कहा कि सरकार के इस बार के आर्थिक सर्वे में 298 पेज हैं जिसमें से महज दो पेजों पर रेलवे का जिक्र किया गया है। सरकार ने रेलवे के रिसोर्स फंड में कटौती की है। सरकार जबतक रेलवे की कमाई बढ़ाने की दिशा में काम नहीं करेगी कोई लाभ नहीं होगा।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 4300/- गज, अजमेर रोड (NH-8) जयपुर में 7230012256

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From national

Trending Now
Recommended