संजीवनी टुडे

चंद्रयान-2: नासा का ऑर्बिटर तस्वीर लेने में विफल, चांद पर हो रही है रात

संजीवनी टुडे 19-09-2019 12:59:39

इसरो के वैज्ञानिक चंद्रयान-2 के लापता लैंडर विक्रम से संपर्क साधने में जुटे हुए हैं। लेकिन, संपर्क की उम्मीद धीरे-धीरे कम होती जा रहीं हैं क्योंकि चांद पर रात हो रही है। जैसे-जैसे वहां अंधेरा होता जाएगा विक्रम से संपर्क करना और भी मुश्किल हो जाएगा।


नई दिल्ली। इसरो के वैज्ञानिक 'चंद्रयान-2' के लापता लैंडर 'विक्रम' से संपर्क साधने में जुटे हुए हैं। लेकिन, संपर्क की उम्मीद धीरे-धीरे कम होती जा रहीं हैं क्योंकि चांद पर रात हो रही है। जैसे-जैसे वहां अंधेरा होता जाएगा विक्रम से संपर्क करना और भी मुश्किल हो जाएगा।

यह भी पढ़े: चुनाव नतीजे के कारण संयुक्त राष्ट्र महासभा में भाग नहीं लेंगे नेतन्याहू : रिपोर्ट

नासा भी विक्रम से संपर्क करने में लगा है। 10 वर्ष से चंद्रमा की परिक्रमा कर रहे नासा के लूनर रिकॉनिस्सेंस ऑर्बिटर (LRO) को मंगलवार को विक्रम लैंडर के लैंडिंग साइट के ऊपर से गुजारा गया। जिसके बाद नासा के ग्रह विज्ञान विभाग, सार्वजनिक मामलों के अधिकारी जोशुआ ए हैंडाल ने एक ईमेल में कहा कि लूनर रिकॉनिस्सेंस ऑर्बिटर कैमरा (LROC) ने लक्षित लैंडिंग साइट के आसपास की छवियों को कैद किया, लेकिन लैंडर का सही स्थान का पता नहीं चल पाया, क्योंकि हो सकता है लैंडर कैमरे के क्षेत्र से बाहर हो। 

यह भी पढ़े: रक्षा मंत्री राजनाथ ने स्वदेसी लड़ाकू विमान तेजस में उड़ान भरी, रचा इतिहास

वहीं अब बताया जा रहा है कि LROC टीम 17 सितंबर को ली गई छवियों की तुलना साइट के पिछले वाले के साथ करेगी ताकि यह देखा जा सके कि लैंडर दिखाई दे रहा है या नहीं। 

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From national

Trending Now
Recommended