संजीवनी टुडे

चंद्रयान 2: लगातर 'विक्रम लैंडर' की तरफ बढ़ रहा है अंधेरा, अब बचे है मात्र 2 दिन, देखें तस्वीर

संजीवनी टुडे 18-09-2019 19:31:28

ये नजारा कैसा है? चांद पर किस तरह रात हो रही है और विक्रम लैंडर से अंधेरा कितनी दूरी पर है? इसकी खास तस्वीर भी जारी हुई है।


नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन द्वारा भेजे गए चंद्रयान 2 के विक्रम लैंडर से संपर्क की उम्मीदें अब लगभग खत्म होती जा रही है, क्योकि चांद पर अब रात हो चली है।हालांकि विक्रम लैंडर अभी भी अंधेरे में नहीं आया है। लेकिन धीरे-धीरे अंधेरा विक्रम लैंडर की तरफ बढ़ रहा है।

यह खबर भी पढ़ें:इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पादों के विनिर्माण को बढ़ावा देने के लिए LED TV पैनल पर आयात शुल्क किया समाप्त

ये नजारा कैसा है? चांद पर किस तरह रात हो रही है और विक्रम लैंडर से अंधेरा कितनी दूरी पर है? इसकी खास तस्वीर भी जारी हुई है। यह तस्वीर एंड्रयू जोन्स नाम के एक साइंस जर्नलिस्ट ने साझा की है। इसमें उन्होंने लिखा है कि दो दिनों के अंदर ही अंधेरा उस जगह पहुंच जाएगा जहां चंद्रयान 2 का विक्रम लैंडर पड़ा है। 

अंधेरे में आते ही क्या होगा विक्रम लैंडर का हाल?
इसके मुताबिक, बस कुछ ही घंटों में हमारा विक्रम लैंडर अंधेरे में चला जाएगा। चांद के दक्षिणी ध्रुव पर रात के समय तापमान माइनस 180 सेल्सियस तक चला जाता है। क्योंकि हमारा विक्रम लैंडर रेडियोआईसोटोप हीटर यूनिट्स से लैस नहीं है, यह इतने कम तापमान को सहन नहीं कर पाएगा।

चांद पर रात भी धरती के करीब 14 दिनों के बराबर होती है। इतने समय तक गहरे अंधेरे और -180 डिग्री तापमान में रहने के बाद विक्रम लैंडर में लगे उपकरण जीवित नहीं रह पाएंगे। यानी इससे संपर्क की उम्मीदें भी अब लगभग खत्म हो चुकी हैं।

गौरलतब है कि 17 सितंबर की रात भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठनकी तरफ से भी एक ट्वीट जारी किया गया था। इसमें इसरो ने साथ खड़े रहने के लिए लोगों का धन्यवाद किया है। साथ ही कहा है कि हम दुनियाभर में फैले भारतीयों की आशाओं व उम्मीदों के बल पर आगे बढ़ना जारी रखेंगे।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From national

Trending Now
Recommended