संजीवनी टुडे

चमकी रोग के लिए घर-घर सक्रिय मामलों का पता लगाने का अभियान शुरू

संजीवनी टुडे 20-06-2019 21:55:29

मुजफ्फरपुर और उसके आसपास के अन्य जिलों में एईएस के बढ़ते हुए मामलों से उत्पन्न स्थिति को देखते हुए प्रभावितों जिलों में आठ अतिरिक्त उन्नत जीवन रक्षक एम्बुलेंस तैनात करने के केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन के निर्देश पर एम्बुलेंस तैनात किया गया है ।


पटना। मुजफ्फरपुर और उसके आसपास के अन्य जिलों में एईएस के बढ़ते हुए मामलों से उत्पन्न स्थिति को देखते हुए प्रभावितों जिलों में आठ अतिरिक्त उन्नत जीवन रक्षक एम्बुलेंस तैनात करने के केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन के निर्देश पर एम्बुलेंस तैनात किया गया है । घर-घर सक्रिय मामलों का पता लगाने का अभियान शुरू किया गया है। आधिकारिक सूत्रों ने गुरुवार को यहां बताया कि इस निर्देश के अनुसार राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के तहत उन्नत जीवन रक्षक एंबुलेंस के अलावा 10 बाल रोग विशेषज्ञों और पांच पैरा-मेडिक्स की केंद्रीय टीम भी मरीजों के इलाज के लिए तैनात की गई है। सूत्रों ने बताया कि इन टीमों ने राज्य सरकार के साथ तालमेल करते हुए काम करना शुरू कर दिया है। सूत्रों के अनुसार सोलह वरिष्ठ जिला अधिकारियों और चिकित्सा कर्मियों को निगरानी और मामलों की जल्द पहचान करने तथा उसकी दैनिक रिपोर्ट भेजने के लिए संवेदनशील ब्लॉकों में भेजा गया है। 

सूत्रों ने कहा कि जिला कलेक्टर भी व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदारी ले रहे हैं तथा विभिन्न ब्लॉक टीमों का नेतृत्व करने के लिए सीनियर डिप्टी कलेक्टरों और जिला स्तर के अधिकारियों को तैनात किया गया है। ब्लॉक स्तर पर समग्र कार्य करने के लिए जिला स्तर के चिकित्सा अधिकारी और प्रभारी चिकित्सा अधिकारी (एमओआईसी) इन टीमों की सहायता करेंगे। बीमारी की जल्दी चेतावनी देने वाले संकेतों का पता लगाने के लिए दैनिक निरीक्षण और निगरानी का काम शुरू करने के निर्देश दिए गए हैं। राज्य सरकार की तरफ से घर-घर जाकर सर्वेक्षण करने और संभावित मरीजों को नजदीकी पीएचसी ले जाने का काम शुरू किया गया है। सूत्रों ने बताया कि प्रभावित गांवों में हर घर में ओआरएस बांटा जा रहा है तथा माइक और व्यक्तिगत संचार जैसे अन्य उपायों द्वारा जागरूकता भी पैदा की जा रही है। सूत्रों ने कहा कि जल्द से जल्द वायरोलॉजी लैब को चालू करने के लिए श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में आईसीएमआर विशेषज्ञों की एक टीम तैनात कर दी गई है और ईलाज कराने वाले एईएस रोगियों के सभी मामलों के रिकॉर्ड की समीक्षा कर रही है। 

यह टीम मृत्यु के कारणों का पता लगाने के लिए मानकीकृत उपकरण का उपयोग कर रही है तथा अगले दो तीन दिनों में यह कार्य पूरी होने की सम्भावना है। सूत्रों ने बताया कि बहु-विषयी टीम इस वर्ष 18 मई से अस्पताल में भर्ती एईएस रोगियों के बारे में व्यवस्थित रूप से नैदानिक, पोषण और महामारी संबंधी जानकारी एकत्र करेगी। संक्रमण का पता लगाने के लिए रक्त, मूत्र और सीएसएफ के नमूने एकत्र किए जाएंगे। यह टीम खाना न मिलने और लीची खपत (प्रमात्रा सहित) की भूमिका की पुष्टि के लिए मामला नियंत्रण अध्ययन करेगी। सूत्रों के अनुसार एएस एंड एमडी (एनएचएम)मनोज झालानी समग्र रूप से चल रहे कार्यों की समीक्षा के लिए कल मुजफ्फरपुर का दौरा करेंगे।

मात्र 260000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

More From national

Trending Now
Recommended