संजीवनी टुडे

सरोगेसी विधेयक 2020 में किए गए संशोधन को कैबिनेट ने दी मंजूरी, जानें क्या है सरोगेसी?

संजीवनी टुडे 26-02-2020 22:22:04

यह विधेयक 2019 में लोकसभा से पारित हुआ था, लेकिन राज्यसभा में आपत्ति के बाद इसमें संशोधन के लिए संसदीय समिति में भेज दिया गया था।


नई दिल्ली। राज्यसभा के संसदीय समिति को भेजे गए सरोगेसी विधेयक 2020 में किए गए संशोधन को केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने मंजूरी दे दी है। यह विधेयक 2019 में लोकसभा से पारित हुआ था, लेकिन राज्यसभा में आपत्ति के बाद इसमें संशोधन के लिए संसदीय समिति में भेज दिया गया था। अब उस संशोधन के साथ विधेयक को मंजूरी मिल गई है।

केन्द्रीय महिला व बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने बताया कि सरोगेसी विधेयक 2020 में विधवा और तलाकशुदा महिलाओं को भी सरोगेसी के मध्यम से मातृत्व सुख का अधिकार होगा। इसके अलावा सरोगेसी की अनुमति उन्हीं दंपतियों की होगी जो बच्चा पैदा करने में असक्षम हैं। इसके साथ ही विधेयक में सरोगेसी करने वाली महिला का करीबी रिश्तेदार होने की आनिवार्यता को खत्म कर दिया गया है। अब कोई भी इच्छुक महिला सरोगेसी कर सकती है। इसके साथ सरोगेट माताओं के लिए इंशोरेंस का कवर करने को 16 महीने से बढ़ाकर 36 महीने का करने का प्रस्ताव है।

विधेयक में राष्ट्रीय स्तर पर और राज्य व केंद्रशासित प्रदेशों के स्तर पर एक सरोगेसी बोर्ड का प्रस्ताव है। केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने इस बोर्ड के कार्यकाल को एक साल से बढ़ाकर तीन साल करने का प्रस्ताव दिया है। साथ ही दंपति की शादी के पांच साल बाद ही सरोगेसी का सहारा लेने का प्रावधान था, जिसे अब हटा दिया गया है।

सरोगेसी क्या है?
सरोगेसी या किराए की कोख होना। सरोगेसी एक ऐसा साधन, तकनीक, जरिया या ऐसा एंग्रीमेंट होता है जो एक निसंतान दंपति और एक स्वस्थ महिला के बीच होता है। जिसके माध्यम से निसंतान दंपतियों को संतान सुख मिल पाता है। आज के दौर में ये तकनीक निसंतान दंपतियों के लिए एक वरदान साबित हो रही है। आमतौर पर सरोगेसी तकनीक का उपयोग उन दंपतियों के लिए किया जाता है। जो लोग खुद की संतान चाहते है, बार-बार गर्भपात होने की स्थिति या आईवीएफ के फेल होने की वजह से संतान सुख से वंचित हैं। वो सरोगेसी के जरिए पुरूष के स्पर्म को एक स्वस्थ महिला के गर्भ में 9 महीनों तक रखा जाता है। जिसके बाद संतान के जन्म के बाद महिला संतान को निसंतान दंपति को सौंप देती है।

यह खबर भी पढ़े: केजरीवाल ने कहा- मैं फिर से गृहमंत्री से अपील करता हूँ दिल्ली में हालात को काबू करने के लिए सेना...

यह खबर भी पढ़े: शहीद हेड कांस्टेबल रतनलाल के परिजनों को दिल्ली सरकार देगी 1 करोड़ का मुआवजा

मात्र 289/- प्रति sq. Feet में जयपुर में प्लॉट बुक करें 9314166166

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From national

Trending Now
Recommended