संजीवनी टुडे

केवाईएस ने मुख्यमंत्री नीतिश कुमार के खिलाफ किया प्रदर्शन

संजीवनी टुडे 19-06-2019 19:51:40

केवाईएस ने मुख्यमंत्री नीतिश कुमार के खिलाफ किया प्रदर्शन


नई दिल्ली। बिहार में एईएस (एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम) यानी चमकी बुखार से एक सौ से भी अधिक बच्चों की मौत पर क्रांतिकारी युवा संगठन (केवाईएस) ने बुधवार को बिहार सरकार के खिलाफ बिहार भवन के बाहर धरना-प्रदर्शन किया। सैंकड़ों की संख्या में आए प्रदर्शनकारियों ने बिहार के मुख्यमंत्री और बिहार सरकार के खिलाफ मुर्राबाद के नारे लगाए। 

इस दौरान प्रदर्शनकारी छात्र-छात्राओं और पुलिस के बीच झड़प भी हुई। पुलिस सभी प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लेकर मंदिर मार्ग थाना ले आई। बाद में सभी को चेतावनी देकर छोड़ दिया गया। केवाईएस के सदस्यों का कहना है कि एईएस अब तक मिले सरकारी आंकड़ों के अनुसार 110 से ज्यादा बच्चों की मौत हो चुकी है। जबकि अकेले मुजफ्फरपुर जिले में पिछले दो हफ्ते में 100 से अधिक मासूम बच्चों की मौतें हो चुकी है। 

उन्होंने कहा कि इन बच्चों की मौत का कारण बिहार सरकार का घटिया स्वास्थ्य प्रबंधन है। देखा जाए तो पिछले कुछ वर्षों से बिहार में लगातार इंसेफलाइटिस के कारण बच्चों की मौतों का सिलसिला लगातार जारी है, लेकिन इस बीमारी की रोकथाम और इससे होने वाली मौत को रोकने के लिए बिहार सरकार व उसका स्वास्थ्य विभाग नाकाम साबित रहा है।

उन्होंने कहा कि हर साल की तरह इस बीमारी से निपटने के लिए इस बार भी बिहार की जनता दल (यूनाईटेड) (जदयू) की सरकार द्वारा पहले से कोई एहतियातन कदम नहीं उठाए गया है, जिसके कारण आज इतनी बड़ी संख्या में मासूम बच्चे मौते के काल में समा गए हैं।उन्होंने बताया कि जिन बच्चों की मौत हुई है, वे सभी लगभग 10 वर्ष से कम आयु वाले हैं और ज्यादातर ये बच्चे बिहार की महादलित समुदाय जाति मुसहर एवं अन्य दलित जाति से आते हैं। उन्होंने कहा कि इस बीमारी से बिहार में 2000 से 2014 के बीच 1000 से ज्यादा बच्चों की मौत हो चुकी है। 

चमकी बुखार से होने वाली मौत का एक बड़ा कारण जहां सरकारी अस्पतालों की लचर व्यवस्था रही है। इस पूरे प्रकरण को लेकर बिहार सरकार, उसके मंत्रियों और अधिकारियों का रवैया बड़ा ही असंवेदनशील रहा है। बिहार सरकार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे को बच्चों से बढ़कर क्रिकेट स्कोर की चिंता थी। 

प्रदर्शनकारियों ने धरना-प्रदर्शन के बाद इस संबंध में बिहार भवन में गृह आयुक्त को बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार के नाम एक ज्ञापन भी सौंपा। उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री से मांग की है कि इंसेफलाइटिस से निपटने के लिए विशेष प्रबंध किया जाए, सरकारी अस्पतालों व प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को दुरुस्त किया जाए, उसके साथ वहां पर तत्काल प्रभाव से डॉक्टरों, नर्सिंग स्टाफ, जरूरी दवाइयों और बेडों का प्रबंधन किया जाए। 

इसके साथ इंसेफलाइटिस से हुई बच्चों की मौत के लिए न्यायिक जांच कमेठी का गठन किया जाए, ताकि जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा सके और बिहार के स्वस्थ्य मंत्री के असंवेदनशील रवैए के लिए उन्हें इस पद से बर्खास्त किया जाए।

जयपुर में प्लाट मात्र 2.60 लाख में कॉल 9314166166

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From national

Trending Now
Recommended