संजीवनी टुडे

सरकार का बड़ा ऐलान, अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए 1.45 लाख करोड़ रुपये का कर...

संजीवनी टुडे 20-09-2019 16:32:51

सरकार ने अर्थव्यवस्था में आयी सुस्ती को दूर करने के लिए रोजगार सृजन एवं निजी निवेश आकर्षित करने के उद्देश्य से कंपनी कर में कटौती करते हुये घरेलू कंपनियों को कर में 1.45 लाख करोड़ रुपये की छूट देने का ऐलान किया है। वह इस कर छूट के लिए अध्यादेश लायेगी।


पणजी। सरकार ने अर्थव्यवस्था में आयी सुस्ती को दूर करने के लिए रोजगार सृजन एवं निजी निवेश आकर्षित करने के उद्देश्य से कंपनी कर में कटौती करते हुये घरेलू कंपनियों को कर में 1.45 लाख करोड़ रुपये की छूट देने का ऐलान किया है। वह इस कर छूट के लिए अध्यादेश लायेगी।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को यहां जीएसटी परिषद की बैठक से पहले संवाददाताओं से बातचीत में कंपनियों को बड़ी राहत देने की घोषणा की। अर्थव्यवस्थ को गति देने के क्रम में सरकार का यह अब तक का सबसे बड़ा ऐलान है। इससे सरकारी खजाने को 1.45 लाख करोड़ रुपये का नुकसान होगा। पिछले सप्ताह भी वित्त मंत्री ने निर्यात बढ़ाने और अटकी पड़ी आवास परियोजनाओं में फंसे खरीदारों को राहत देने का ऐलान किया था। इस निर्णय से भी सरकार को 50 हजार करोड़ रुपये का नुकसान होने का अनुमान है। अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए अब तक किये गये राहत उपायों से खजाने पर करीब दाे लाख करोड़ रुपये का भार पड़ेगा।

वित्त मंत्री ने घरेलू कंपनियों और नयी घरेलू विनिर्माण कंपनियों के लिए कंपनी करों में बड़ी कटौती की घोषणा करते हुये कंपनी कर की दर बिना रियायत के 22 प्रतिशत कर दी है। उपकर और प्रभार मिलाकर यह दर 25.17 प्रतिशत हो जायेगी जो अभी 30 प्रतिशत है। उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था की रफ्तार और निवेश बढ़ाने के लिए आयकर कानून में चालू वित्त वर्ष से बदलाव किया जायेगा और इसके लिए जल्द ही अध्यादेश लाया जायेगा।

उन्होंने बताया कि ‘मेक इन इंडिया’ को बढावा देने के लिए आयकर कानून में एक नया प्रावधान किया जायेगा। चालू वित्त वर्ष में एक अक्टूबर के बाद से अस्तित्व में आने वाली और विनिर्माण में निवेश करने वाली घरेलू कंपनी को केवल 15 प्रतिशत की दर से कर देना होगा। इसका अर्थ यह हुआ कि इस वर्ष एक अक्टूबर या उसके बाद देश में गठित किसी भी ऐसी कंपनी पर 15 प्रतिशत ही कर लगेगा। 

यदि यह कंपनी 31 मार्च 2023 से पहले उत्पादन शुरू कर देती है तो उसे 15 प्रतिशत कर का भुगतान करना होगा लगेगा और सभी प्रकार के प्रभार और उपकर समेत यह 17.10 प्रतिशत होगा। इस तरह की कंपनियां न्यूनतम वैकल्पिक कर (मैट) चुकाने से मुक्त होंगी।

मती सीतारमण ने कहा कि जो कंपनियां कर में छूट का लाभ नहीं उठाना चाहती और पुरानी दरों से कर चुकाना चाहती हैं तथा कर में पहले दी गयी छूट की अवधि समाप्त होने के बाद इस नयी कर दर को अपनाना चाहती हैं उन्हें 22 प्रतिशत की दर से कर देना होगा। नयी कर दर अपनाने के बाद उन्हें पुरानी दर अपनाने की छूट नहीं मिलेगी। छूट और इसेंटिव ले रही कंपनियों को राहत देने के लिए मैट को 18.5 प्रतिशत से घटाकर 15 प्रतिशत कर दिया गया है।

उन्होंने कंपनियों के लिए एक और बड़ा ऐलान करते हुए बताया कि पांच जुलाई 2019 से पहले शेयरों की पुनर्खरीद की घोषणा करने वाली कंपनियों पर ‘सुपर रिच’ कर नहीं लगेगा। पूंजी बाजार में प्रवाह बढ़ाने के लिए चालू वित्त वर्ष के आम बजट में बढ़ाया गया प्रभार कंपनी में शेयरों की बिक्री और इक्विटी फंड यूनिट बिक्री से होने वाले कैपिटल गेन पर नहीं लगेगा। इस छूट में एफपीआई और डेरेवेटिव भी शामिल हैं।

वित्त मंत्री ने कहा कि इसके साथ ही सरकार ने सीएसआर के तहत कंपनियों के दाे फीसदी व्यय करने के दायरे का भी विस्तार करने का निर्णय लिया है। अब कंपनियां सीएसआर के तहत केन्द्र, राज्य, किसी अन्य एजेन्सी तथा सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के इनक्युबेटरों पर भी व्यय कर सकेंगी।

 इसके अतिरिक्त सीएसआर कोष का सरकारी विश्वविद्यालयोंं, आईआईटी, नेशनल लैबोरेट्रीज और आईसीएआर, आईसीएमआर, सीएसआईआर, डीएई, डीआरडीओ, डीएसटी , इलेक्ट्रानिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत स्थापित स्वायत्त संस्थानों में विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और फॉर्मा क्षेत्र में शोध के लिए भी उपयोग किया जा सकेगा।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From national

Trending Now
Recommended