संजीवनी टुडे

पुलवामा से पहले जैश-ए-मोहम्मद की दिल्ली में बड़ी वारदात की थी तैयारी

संजीवनी टुडे 22-02-2019 22:31:49


नई दिल्ली। कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले से पहले कुख्यात आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी दिल्ली में बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में थे। जैश के मुखिया मौलाना मसूद अजहर ने निर्देश पर पुलवामा हमले को अंजाम देने वाले आतंकी गाजी रशीद उर्फ कामरान के गुर्गे दिल्ली में बड़ी वारदात को अंजाम देना चाहते थे। 

इस बात का खुलासा जहां खुफिया इकाइयों के हाथ लगे एक ऑडियो क्लिप में हुआ है, वहीं मिलिट्री इंटेलीजेंस की सूचना पर दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के हत्थे चढ़े जैश आतंकियों अब्दुल लतीफ गनी और हिलाल अहमद भट्ट से पूछताछ में हुआ है। जैश के इन दोनों आतंकियों ने भीड़भाड़ वाले पांच प्रमुख स्थानों की रेकी भी की थी।

चार महीने तक रुके थे दिल्ली में
दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के हत्थे चढ़े अब्दुल लतीफ गनी और जम्मू कश्मीर से हिलाल अहमद भट्ट चार महीने तक दिल्ली के यमुनापार इलाके में स्थित लक्ष्मी नगर व वजीराबाद इलाके में आकर ठहरे थे। पुलिस सूत्रों की मानें तो ये दोनों पुलवामा हमले के मास्टर माइंड आतंकी गाजी रशीद उर्फ कामरान के मॉड्यूल को बाहर से मदद करने वाले गुर्गों के करीबी थे। हालांकि सीधे तौर पर इनका मॉड्यूल से संपर्क नहीं था, बल्कि इन्हें सीमापार से निर्देश मिल रहे थे।

अबु बकर ने 7 हैंड ग्रेनेड दिए थे
स्पेशल सेल के अनुसार अब्दुल लतीफ गनी से पूछताछ में यह भी पता चला कि पाकिस्तान में बैठे उसके आका जैश कमांडर अबू मौजा उर्फ अबू बकर ने उसे ग्रेनेड मुहैया कराए थे। अबू मौज़ा ने उन्हें पिछले साल नवंबर में एक आकिब के माध्यम से सात हैंड ग्रेनेड दिए थे। अबू मौजा के निर्देश पर वह लाल चौक गया था तो उसे वहां आकिब मिला था। 
आकिब दो दिनों तक लतीफ के घर रहा था। आकिब ने एक दर्जन से अधिक हैंड ग्रेनेड, एक पिस्तौल और 30 जिंदा कारतूस लतीफ को दिए थे। हालांकि दिल्ली में हमले के लिए जिस ग्रेनेड को लेकर आने की तैयारी थी, उसे स्पेशल सेल ने श्रीनगर पुलिस के साथ मिलकर वहां छोपमारी कर बरामद कर लिया था।

जयपुर में प्लॉट मात्र 2.30 लाख में Call On: 09314188188

भतीजे उस्मान को मारे जाने से था गुस्से में
पुलिस सूत्रों की मानें तो मौलाना मसूद अजहर अपने भतीजे उस्मान का अपने ताजा ऑडियो में जिक्र करता है। उसे वर्ष- 2018 में कश्मीर में सेना ने एक ऑपरेशन में मार गिराया था, जिसके बाद से ही मौलाना बदले की आग में झुलस रहा था। इसके लिए ही उसने आइईडी एक्सपर्ट पुलवामा हमले के मास्टर माइंड कमांडर राशिद गाजी को कमान सौंपी थी।
राशिद ने कश्मीर ने तेजी से अपना नेटवर्क खड़ा किया और उससे जुड़े लोगों के बारे में सीमापार को जानकारी दे दी थी। इसके बाद सीमापार से ही दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के हत्थे चढ़े दोनों आतंकियों अब्दुल लतीफ गनी और हिलाल अहमद भट्ट को वहां निर्देश मिलने लगे थे। ये दोनों इस काम के लिए कई बार श्रीनगर से दिल्ली का चक्कर लगा चुके थे।

MUST WATCH & SUBSCRIBE

ऑडियो में भी हुआ खुलासा
भारत का मोस्ट वॉन्टेड आतंकी मौलाना मसूद द्वारा जारी किए गए एक ऑडियो में भी कश्मीर से लेकर दिल्ली तक भारत के विभिन्न इलाकों में हमला करने के निर्देश दिए थे। उसे साफ तौर पर यह कहते हुए सुना गया कि 'कश्मीरी नौजवानों, क्या उस्मान की शहादत आप सबको खड़ा करने के लिए काफी नहीं है। इंडिया ने आपको ये आप्शन दिया है या कुफ्र की तैयार करो। गुलामी कबूल करो या मजलूमियत के साथ मरो। आप ये दोनों आप्शन उसके मुंह पर मार कर इज्जत और शहादत के रास्ते पर आ जाएं।’ इतना ही नहीं इस ऑडियो में भारत के खिलाफ उसने और भी जहर उगले और सिर्फ कश्मीर ही नहीं बल्कि दिल्ली सहित पूरे भारत को उखाड़ फेंकने की बात कर रहा है।

More From national

Loading...
Trending Now