संजीवनी टुडे

कोरोनिल दवा को लेकर बाबा रामदेव ने दी बड़ी प्रतिक्रिया, कहा- क्या सिर्फ कोट-टाई वाले ही रिसर्च करेंगे, धोती वाले नहीं कर सकते?

संजीवनी टुडे 01-07-2020 14:28:04

बाबा रामदेव ने कहा कि कोरोना पीड़ितों से हमदर्दी रखनी चाहिए। मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोनिल के क्लीनिकल ट्रायल का डेटा हमने आयुष मंत्रालय को भेजा, आयुष मंत्रालय के सारे अप्रूवल लिए गए।


डेस्क। कोरोनिल दवा पर सफाई देने के लिए योग गुरु बाबा रामदेव ने आज हरिद्वार में एक प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया। जिसमें उन्होंने अपना पक्ष सामने रखा। इस दौरान योगगुरू बाबा रामदेव ने कहा कि कोरोना पीड़ितों से हमदर्दी रखनी चाहिए। मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोनिल के क्लीनिकल ट्रायल का डेटा हमने आयुष मंत्रालय को भेजा, आयुष मंत्रालय के सारे अप्रूवल लिए गए। हमने सभी पैरमीटर फॉलो किए। एफआईआर करो, देशद्रोही कह लो या आतंकी कह लो कोई फर्क नहीं पड़ता। 

बाबा रामदेव ने कहा 'ऐसा लगता है कि हिन्दुस्तान के अंदर योग आयुर्वेद का काम करना एक गुनाह है। सैकड़ों जगह एफआईआर दर्ज हो गईं, जैसे किसी देशद्रोही और आतंकवादी के खिलाफ दर्ज होती हैं। हमने कोरोना की दवा पर अच्छी पहल की है। लेकिन लोग हमें गाली दे रहे हैं। आप हमें गाली दो। लेकिन कम से कम उन लोगों के साथ हमदर्दी रखो, जो कोरोना वायरस से पीड़ित हैं और जिन लाखों-करोड़ों बीमार लोगों का पतंजलि ने इलाज किया है। उन्होंने कहा कि दवा बनाकर क्या मैंने कोई गुनाह कर दिया, सत्कार नहीं कर सकते तो तिरस्कार तो मत कीजिए। 

Baba Ramdev

बाबा रामदेव ने कहा कि लोगों ने सोशल मीडिया पर यह बात भी फैला दी कि सात दिनों में बाबा जेल जाएंगे। जाति और धर्म को लेकर भी टिप्पणियां की गईं। हमने कोरोनिल दवा से जुड़ी पूरी रिसर्च आयुष मंत्रालय को दी थी जिसको भी देखना है वो देख सकता है।

कहा कि अभी तो हमने एक कोरोना के बारे में क्लीनिकल कंट्रोल ट्रायल का डाटा सामने रखा तो तूफान उठ गया। उन ड्रग माफिया, मल्टीनेशनल कंपनियों, भारतीय और भारतीयता विरोधी ताकतों की जड़ें हिल गईं। उनको लगता है कि कोट टाई पहनने वाले रिसर्च करते हैं, भगवा पहने लंगोट वाले ने कैसे रिसर्च कर ली।

Baba Ramdev

मैं पूछता हूं कि क्या उन लोगों ने ठेका ले रखा है। हमने योग और रिसर्च पर दस हजार करोड़ का ढांचा बनाया है। योग आयुर्वेद का काम करना एक गुनाह हो गया है। जैसे देशद्रोही और आतंकवादियों के खिलाफ एफआईआर होती है। वैसे ही हमारे खिलाफ भी की जा रही है।

बाबा रामदेव बोले- जिस तरह से देशद्रोही के खिलाफ मुकदमा दर्ज होते है ऐसे मुकदमे दर्ज हुए ये मानसिकता हमे कहां लेकर जाएगी हम दोनों 35 वर्षो से साथ काम कर रहे है दोनों सामान्य परिवार से आये इसलिये लोगो को मिर्ची लगती है। पिछले तीन दशकों में करोड़ो लोगो को निरोगी किया है योग सिखाया है। जब अब मंत्रालय ने भी कहा कि क्लीनिकल ट्रायल किया गया तो लोग तीन दिन में ठीक हो गए, सब अप्रूवल भी हमने सम्मिट कर दिए अब जब सारे अप्रूवल लेकर अभी कोरोना के ऊपर ट्रायल हुआ है।

रामदेव ने कहा, आयुर्वेद दवाइयों को बनाने का यूनानी और आयुर्वेद डिपार्टमेंट से लाइसेंस लिया है। ये आयुष मंत्रालय से संबंधित होता है। आयुर्वेद में सभी दवाइयों का रजिस्ट्रेशन उनके परमपरागत गुणों के आधार पर होता है। कोई भी औषधि का अनुसंधान है, क्लिनिकल कंट्रोल ट्रायल है, उसका प्रोटोकोल आयुर्वेद तय नहीं करता है। इसलिए इस दवा का आयुर्वेदिक ड्रग लाइसेंस परमपरागत गुणों के आधार पर लिया गया है।

Baba Ramdev

उन्होंने कहा, कोरोनिल दवा से जुड़ी पूरी रिसर्च आयुष मंत्रालय को दी है जिसको भी देखना है वो देख सकता है। हमने मॉडर्न साइंस के प्रोटोकॉल के तहत रिसर्च की है। कोरोनिल में गिलोय,अश्वगंधा और तुलसी का संतुलित मात्रा में मिश्रण है।

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

 

यह खबर भी पढ़े: बहादुरी की मिसाल/सोपोर में गोलियों की बौछार, आतंकियों ने दादा को उतारा मौत के घाट, जवानों ने 3 साल के मासूम को बचाया

यह खबर भी पढ़े: भारत में चीनी उत्पादों का पूर्ण बहिष्कार, किस हद तक रंग लायेगा ये माहौल?

 

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From national

Trending Now
Recommended