संजीवनी टुडे

असम: बाढ़ से अभी भी 28 जिलों के 53,52,107 लोग प्रभावित, अब तक 39 लोगों की मौत

संजीवनी टुडे 18-07-2019 22:58:37

बारिश में कमी के चलते कुछ इलाकों में नदियों के पानी में मामूली उतार देखने को मिला है जबकि अधिकांश इलाकों जलस्तर में गिरावट दर्ज हुई है।


गुवाहाटी। बारिश में कमी के चलते कुछ इलाकों में नदियों के पानी में मामूली उतार देखने को मिला है, जबकि अधिकांश इलाकों जलस्तर में गिरावट दर्ज हुई है। गुरुवार को असम आपदा प्रबंधन विभाग के आंकड़ों के अनुसार राज्य के 28 जिलों के 103 राजस्व सर्किल के 53,52,107 लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। जबकि अब तक बाढ़ से 39 लोगों की मौत हो चुकी है।राज्य के 33 जिलों में से अभी भी बाढ़ प्रभावित 28 जिलों में धेमाजी, लखीमपुर, बिश्वनाथ, शोणितपुर, दरंग, उदालगुड़ी, बाक्सा, बरपेटा, नलबाड़ी, चिरांग, बंगाईगांव, कोकराझार, धुबड़ी, दक्षिण सालमारा, ग्वालपाड़ा, कामरूप, कामरूप (मेट्रो), मोरीगांव, होजाई, नगांव, गोलाघाट, माजुली, जोरहाट, डिब्रूगढ़, तिनसुकिया, कछार, करीमगंज और कार्बी आंग्लांग शामिल हैं। 

मुख्य रूप से ब्रह्मपुत्र समेत कुल 05 नदियां खतरे के निशान के ऊपर बह रही हैं। जिसमें ब्रह्मपुत्र नद, धनसिरी, जिया भराली, कपिली, पुठिमारी और कुसियारा नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं।राज्य के आपदा प्रबंधन विभाग के आंकड़ों के अनुसार 103 राजस्व सर्किल के 4,128 गांवों में बाढ़ का पानी अभी घुसा हुआ है। जिसकी वजह से 53,52,107 लोग प्रभावित हुए हैं। बाढ़ के पानी में कुल 2,12,122.74 हेक्टेयर में खड़ी फसल डूब गई है। लोगों को अपने घरों को छोड़कर राहत शिविरों व ऊंचाई वाले स्थानों पर शरण लेने को मजबूर होना पड़ा है। प्रशासन ने कुल 1,080 राहत शिविर स्थापित किए हैं। जिसमें आश्रय शिविर 689 तथा राहत समग्री वितरण शिविरों की संख्या 391 वहीं आश्रय शिविरों में कुल 2,25,737 लोग आश्रय लिए हुए हैं।

आपदा प्रबंधन के आंकड़ों के अनुसार बाढ़ के चलते गुरुवार को 09 लोगों की मौत हो गई। जिसमें बिश्वनाथ में दो, शोणितपुर में एक, उदालगुड़ी में एक, बंगाईगांव में एक, बरपेटा में एक तथा मोरीगांव में तीन व्यक्तियों की मौत हो गई। जबकि 10 जुलाई को 03, 12 जुलाई को 03, 13 जुलाई को 01, 14 जुलाई को 04, 15 जुलाई को 04, 16 जुलाई को 05 तथा 17 जुलाई को 10 लोगों की मौत हो चुकी है। अब तक 39 लोगों की बाढ़ व भूस्खलन से मौत हुई है। बाढ़ के कारण 16,37,966 बड़े, 8,80,859 छोटे पालतु पशु तथा 22,59,413 पोलेट्री भी प्रभावित हुए हैं। बाढ़ में फंसे लोगों को राहत पहुंचाने के लिए एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, सेना व नागरिक प्रशासन की टीम पूरी मुश्तैदी के साथ लगी हुई है। बाढ़ प्रभावित इलाकों में सरकारी एजेंसियों के साथ स्वास्थ्यकर्मी भी राहत कार्य में जुटी हुई हैं। बाढ़ के पानी में गुरुवार को 88 बड़े तथा 40 छोटे पशु एवं 120 पोल्ट्री बह गये। जबकि बाढ़ से बुधवार को 939 घर पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए। वहीं 2,857 घर आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हुए हैं। बाढ़ प्रभावित लोगों के बीच सरकार की ओर से गुरुवार को 26,916.24 क्वींट चावल, 5,319.428 क्वींटल दाल, 7,760.56 क्वींटल नमक, 42,997.64 लीटर सरसों के तेल के अलावा आटा, कैंडल पैकेट्स, माचिस बाक्सा, मॉस्किटो क्वायल, दवाइयां व बच्चों का भोजन भी आवश्यकता के अनुसार वितरित किया गया है।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From national

Trending Now
Recommended