संजीवनी टुडे

गैर परंपरागत हथियारों की चुनौती पर ध्यान दे सेना: राजनाथ

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 18-10-2019 20:49:32

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि दुनिया भर में युद्ध के बदलते तौर तरीको के मद्देनजर सेना को भविष्य में गैर परांपरागत हथियारों के इस्तेमाल से संबंधित चुनौती पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है।


नई दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि दुनिया भर में युद्ध के बदलते तौर तरीको के मद्देनजर सेना को भविष्य में गैर परांपरागत हथियारों के इस्तेमाल से संबंधित चुनौती पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है।

यह खबर भी पढ़ें: यूपी में 25 हजार होमगार्ड जवानों को हटाने पर योगी सरकार पर बरसी प्रियंका

सिंह ने आज यहां सेना के शीर्ष कमांडरों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि बदली परिस्थितियों में युद्ध के तरीकों के नये रूप सामने आ रहे हैं जिससे नयी चुनौती खड़ी हो गयी है। उन्होंने कहा कि शीर्ष कमांडरों को भविष्य में गैर परांपरागत हथियारों के इस्तेमाल पर समुचित ध्यान देना चाहिए। रक्षा मंत्री ने अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी , साइबर, अंतरिक्ष , सूचना युद्ध और गढी जाने वाली धारणाओं पर भी चर्चा की।

उन्होंने कहा कि उनका मानना है कि देश के समक्ष सभी चुनौतियों से निपटने के लिए सेना का इस्तेमाल आखिरी विकल्प होना चाहिए चाहे वह उग्रवाद से मुकाबला हो , सीमा संबंधी चुनौती हो या मानवीय सहायता के मिशन हों। उन्होंने कहा कि सेना जम्मू कश्मीर की चुनौती से निपटने के लिए सभी सुरक्षा एजेन्सियों के साथ मिलकर अच्छी भूमिका निभा रही है। सेना की यह भूमिका असाधारण है।

सिंह ने तीनों सेनाओं के बीच तालमेल और एकीकरण को अभियानों के लिए जरूरी बताते हुए कहा कि चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) की इसमें महत्वपूर्ण भमिका रहेगी। उन्होंने सेना द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में चलाये जा रहे सद्भावना मिशनों की भी सराहना की। रक्षा तैयारियों का जिक्र करते हुए उन्होंने कमांडरों काे आश्वस्त किया कि सेना को किसी भी तरह की दिक्कत नहीं होगी हालाकि साथ ही उन्होंने बजट की सीमाओं का भी उल्लेख किया। मेक इन इंडिया के तहत भारतीय रक्षा उद्योग को मजबूत बनाने का भी उन्होंने कमांडरों से आह्वान किया। उन्होंने कहा कि सेना देश की अपेक्षाओं पर खरी उतरी है और सभी को देश की सुरक्षा को लेकर उस पर भरोसा है।

सेना के शीर्ष कमांडरों का सम्मेलन गत गत सोमवार को शुरू हुआ था। सम्मेलन में सेना की तैयारियों, मौजूदा और भविष्य की संचालन जरूरतों के अनुरूप प्रशिक्षण , सैन्य सुधार और संसाधनों के अधिकतम इस्तेमाल जैसे मुद्दों पर विस्तार से चर्चा की गयी।

मात्र 13.21 लाख में अपने ख़ुद के मकान का सपना करें साकार, सांगानेर जयपुर में बना हुआ मकान कॉल - 9314166166

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From national

Trending Now
Recommended