संजीवनी टुडे

PoK को भारत में मिलाने पर आर्मी चीफ ने दिया बड़ा बयान, कहा- सरकार आदेश दे हम एक्शन के लिए है तैयार

संजीवनी टुडे 12-09-2019 18:56:27

राज्यमंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा था कि हमारा अगला लक्ष्य गुलाम कश्मीर में तिरंगा लहराना है।


नई दिल्ली। पाकिस्तान के अवैध कब्जे वाले जम्मू-कश्मीर को लेकर राज्यमंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह के बाद सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने बड़ा बयान दिया है। भारत सरकार ने जब से जम्मू-कश्मीर से Article 370 को हटाया है, तब से POK (गुलाम कश्मीर) को भी भारत के अंदर लाने की बात की जा रही है। 

तारबंदी पार करके भारत आया पाकिस्तानी घुसपैठिया, पूछताछ में किए कई चौंकाने वाले खुलासे

मंगलवार को प्रधानमंत्री कार्यालय के राज्यमंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा था कि हमारा अगला लक्ष्य गुलाम कश्मीर में तिरंगा लहराना है। इसपर अब जहां सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने भी बड़ा बयान दिया है।

पत्रकार द्वारा जब बिपिन रावत से जितेंद्र सिंह के बयान पर प्रतिक्रिया मांगी गई तो उन्होंने कहा, 'अगला एजेंडा पीओके को पुनः प्राप्त करना है और इसे भारत का हिस्सा बनाना है'। मंगलवार को प्रेस कांफ्रेंस करते हुए जितेंद्र सिंह ने पाकिस्तान को आईना दिखाया। उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 हटने का राग अलापने वाला पाकिस्तान अब खुद पूरी दुनिया में एक्सपोज हो गया है।

साथ ही उन्होंने कहा था कि अनुच्छेद 370 हटाना मोदी सरकार के पहले 100 दिन की सबसे बड़ी उपलब्धि है। इससे देश के साथ जम्मू-कश्मीर और लद्दाख का संपूर्ण एकीकरण हो गया है। ऐसे में हमारा अगला लक्ष्य गुलाम कश्मीर में तिरंगा लहराना है।

जैव आतंकवाद से निपटने के लिए तैयार रहे सेना: राजनाथ

वही बिपिन रावत ने कहा, 'पीओके के लिए एजेंडा तैयार, भारत का हिस्सा बनाएंगे'। हालांकि उन्होंने कहा कि ऐसे मामलों में सरकार फैसला लेती है। एक बार सरकार आदेश दे तो जो अन्य संस्थाएं है वह तैयारियां करेंगी। वहीं जब उनसे सेना पर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, 'सेना हर-दम तैयार है, हमेशा से'।

 बता दे कि , 370 को हटाए जाने के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था, 'जम्‍मू-कश्‍मीर के विकास के लिए वहां अनुच्‍छेद 370 को समाप्त किया गया है। इस पर पाकिस्‍तान बेवजह तिलमिलाया हुआ है। वह पड़ोसी दूसरे देशों के दरवाजे खटखटा रहा है, लेकिन पूरे विश्‍व में उसे कहीं भी समर्थन नहीं मिल रहा। उन्‍होंने कहा कि अब पाकिस्‍तान से तभी बातचीत हो सकती है जब वह आतंकवाद का समर्थन करना बंद कर देगा। अब पाकिस्‍तान से बातचीत होगी तो सिर्फ गुलाम कश्‍मीर पर होगी।

More From national

Trending Now
Recommended