संजीवनी टुडे

Ambedkar Jayanti 2020: जानिए अंबेडकर जयंती कब और क्यों मनाई जाती है?

संजीवनी टुडे 12-04-2020 08:20:59

अंबेडकर जयंती 2020 पूरे भारत के लोगों द्वारा 14 अप्रैल मंगलवार को मनाया जायेगा। अंबेडकर जयंती या भीम जयंती भीमराव आम्बेडकर जिन्हें डॉ॰ बाबासाहेब आंबेडकर के नाम से भी जाना जाता है, के जन्म दिन 14 अप्रैल को त्यौहार के रूप में भारत समेत पुरी दुनिया में मनाया जाता है। ये भारत के लोगों के लिये एक बड़ा क्षण था जब वर्ष 1891 में उनका जन्म हुआ था।


डेस्क। अंबेडकर जयंती 2020 पूरे भारत के लोगों द्वारा 14 अप्रैल,  मंगलवार को मनाया जायेगा। अंबेडकर जयंती या भीम जयंती भीमराव आम्बेडकर जिन्हें डॉ॰ बाबासाहेब आंबेडकर के नाम से भी जाना जाता है, के जन्म दिन 14 अप्रैल को त्यौहार के रूप में भारत समेत पुरी दुनिया में मनाया जाता है। ये भारत के लोगों के लिये एक बड़ा क्षण था जब वर्ष 1891 में उनका जन्म हुआ था। अंबेडकर जयंती एक सार्वजनिक अवकाश है जो भारतीय लोगों को भारत की सामाजिक प्रगति के बारे में गंभीरता से सोचने का अवसर देता है। भारत के लोगों के लिये डॉ भीमराव अंबेडकर का जन्म दिवस और उनके योगदान को याद करने के लिये 14 अप्रैल को एक उत्सव से कहीं ज्यादा उत्साह के साथ लोगों के द्वारा अंबेडकर जयंती को मनाया जाता है। 

Ambedkar Jayanti

अंबेडकर जयंती क्यों मनायी जाती है

आंबेडकर के योगदान को याद करने के लिये 14 अप्रैल को एक उत्सव से कहीं ज्यादा उत्साह के साथ लोगों के द्वारा आंबेडकर जयंती को मनाया जाता है। इस दिन उनके स्मरणों को अभिवादन किया जाता हैं। जयंती मनायी जाती है। डॉ भीमराव अंबेडकर भारतीय संविधान के पिता थे जिन्होंने भारत के संविधान का ड्रॉफ्ट (प्रारुप) तैयार किया था। वो एक महान मानवाधिकार कार्यकर्ता थे जिनका जन्म 14 अप्रैल 1891 को हुआ था।

उन्होंने भारत के निम्न स्तरीय समूह के लोगों की आर्थिक स्थिति को बढ़ाने के साथ ही शिक्षा की जरुरत के लक्ष्य को फैलाने के लिये भारत में वर्ष 1923 में “बहिष्कृत हितकरनी सभा” की स्थापना की थी। इंसानों की समता के नियम के अनुसरण के द्वारा भारतीय समाज को पुनर्निर्माण के साथ ही भारत में जातिवाद को जड़ से हटाने के लक्ष्य के लिये “शिक्षित करना-आंदोलन करना-संगठित करना” के नारे का इस्तेमाल कर लोगों के लिये वो एक सामाजिक आंदोलन चला रहे थे।

Ambedkar Jayanti

बाबा साहब अंबेडकर का जीवन

बाबा साहब भीमराव अंबेडकर एक भारतीय राजनेता और अर्थशास्त्री थे जिन्होंने भारत के संविधान के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है। भारत में व्यापक मानव अधिकारों का अधिवक्ता होने के नाते, अंबेडकर जी ने भारत से जाति प्रथा को हटाने का पूरा प्रयास किया। बाबा साहब अंबेडकर का लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से काफी घनिष्ठ संबंध था। बाद में, अंबेडकर भारत के पहले कानून मंत्री बनें।

Ambedkar Jayanti

प्रारंभिक जीवन

बाबा साहब अंबेडकर भारतीय सेना के एक अधिकारी के पुत्र थे। उनके पिता के अधिकारी वर्ग के पद के बावजूद, अंबेडकर और उनका परिवार भारत की एक दलित जाति से संबंधित था। भारतीय परंपरा के अनुसार, जाति प्रथा समाज के प्रत्येक सदस्य की भूमिका निर्धारित करती थी। दलित जाति का होने के नाते, अंबेडकर जी को अछूत माना जाता था। 19वीं और 20वीं शताब्दी के दौरान भारतीय जनसंख्या का एक बड़ा हिस्सा अछूत था। कई मामलों में, लोगों को केवल गरीबी और ऐसी अन्य स्थितियों के कारण दलित की श्रेणी में डाल दिया जाता था जिनपर किसी का कोई नियंत्रण नहीं होता है। अछूतों को कई रोजगार और शैक्षिक अवसरों से दूर रखा जाता था। अछूत अलग भी रहते थे।

अछूत होने के कारण, अंबेडकर जी को अपनी बाल्यावस्था के दौरान बहुत सारे भेदभाव का सामना करना पड़ा था। दलित होने के बावजूद, अंबेडकर जी ने स्कूल में बहुत कठिन परिश्रम के साथ पढ़ाई की। अपने कठिन परिश्रम की वजह से उन्होंने हाई स्कूल की प्रवेश परीक्षाओं के दौरान बहुत अच्छे अंक प्राप्त किये। अछूतों को हाई स्कूल के स्तर की पढ़ाई करने का बहुत कम अवसर मिलता था, इसलिए अंबेडकर जी के जीवन में यह एक बहुत महत्वपूर्ण क्षण था। जहाँ अंबेडकर जी रहते थे वहां के अछूतों के समुदाय ने उनकी सफलता का जश्न मनाया और उन्हें उपहारों से सम्मानित किया। अंबेडकर जी की बढ़ती प्रसिद्धि की यह केवल एक शुरुआत थी।

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

 

डॉ भीमराव अंबेडकर के बारे में

डॉ भीमराव अंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को ब्रिटिश भारत के केन्द्रीय प्रांत के महू जिले में एक गरीब महार परिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम रामजी मालोजी सकपाल था और माता का नाम भीमाबाई था। इनका निधन 6 दिसंबर 1956 को दिल्ली में हुआ था। भारतीय समाज में अपने दिये महान योगदान के लिये वो लोगों के बीच बाबासाहेब नाम से जाने जाते थे। आधुनिक बौद्धधर्मी आंदोलन लाने के लिये भारत में बुद्ध धर्म के लिये धार्मिक पुनरुत्थानवादी के साथ ही अपने जीवन भर उन्होंने एक विधिवेत्ता, दर्शनशास्त्री, समाजिक कार्यकर्ता, राजनीतिज्ञ, इतिहासकार, मनोविज्ञानी और अर्थशास्त्री के रुप में देश सेवा की। वो स्वतंत्र भारत के पहले कानून मंत्री थे और भारतीय संविधान का ड्रॉफ्ट तैयार किया था। 

 ये खबर भी पढ़े:  COVID-19: महाराष्ट्र, तमिलनाडु और दिल्ली के बाद राजस्थान में बरपा Corona का कहर, 82 नए रोगी मिले

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From national

Trending Now
Recommended