संजीवनी टुडे

Ambedkar Jayanti 2020: जानिए भारत रत्न 'बाबा साहब' भीमराव अंबेडकर के जीवन के बारें में...

संजीवनी टुडे 10-04-2020 12:05:19

हर वर्ष14 अप्रैल के दिन भारत रत्न बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की याद में देशभर में अंबेडकर जयंती के कार्यक्रम को काफी धूम-धाम के साथ मनाया जाता हैं। डॉ. भीमराव अंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को महू में सूबेदार रामजी शकपाल एवं भीमाबाई की चौदहवीं संतान के रूप में हुआ था।


डेस्क। हर वर्ष14 अप्रैल के दिन भारत रत्न बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की याद में देशभर में अंबेडकर जयंती के कार्यक्रम को काफी धूम-धाम के साथ मनाया जाता हैं। डॉ. भीमराव अंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को महू में सूबेदार रामजी शकपाल एवं भीमाबाई की चौदहवीं संतान के रूप में हुआ था। उनके व्यक्तित्व में स्मरण शक्ति की प्रखरता, बुद्धिमत्ता, ईमानदारी, सच्चाई, नियमितता, दृढ़ता, प्रचंड संग्रामी स्वभाव का मणिकांचन मेल था। उनकी यही अद्वितीय प्रतिभा अनुकरणीय है। वे एक मनीषी, योद्धा, नायक, विद्वान, दार्शनिक, वैज्ञानिक, समाजसेवी एवं धैर्यवान व्यक्तित्व के धनी थे। वे अनन्य कोटि के नेता थे, जिन्होंने अपना समस्त जीवन समग्र भारत की कल्याण कामना में उत्सर्ग कर दिया।

Ambedkar Jayanti
संयोगवश भीमराव सातारा गांव के एक ब्राह्मण शिक्षक को बेहद पसंद आए। वे अत्याचार और लांछन की तेज धूप में टुकड़ा भर बादल की तरह भीम के लिए मां के आंचल की छांव बन गए। बाबा साहब ने कहा- वर्गहीन समाज गढ़ने से पहले समाज को जातिविहीन करना होगा। समाजवाद के बिना दलित-मेहनती इंसानों की आर्थिक मुक्ति संभव नहीं।

बाबा साहब अंबेडकर का जीवन

बाबा साहब भीमराव अंबेडकर एक भारतीय राजनेता और अर्थशास्त्री थे जिन्होंने भारत के संविधान के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है। भारत में व्यापक मानव अधिकारों का अधिवक्ता होने के नाते, अंबेडकर जी ने भारत से जाति प्रथा को हटाने का पूरा प्रयास किया। बाबा साहब अंबेडकर का लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से काफी घनिष्ठ संबंध था। बाद में, अंबेडकर भारत के पहले कानून मंत्री बनें।

Ambedkar Jayanti

प्रारंभिक जीवन

बाबा साहब अंबेडकर भारतीय सेना के एक अधिकारी के पुत्र थे। उनके पिता के अधिकारी वर्ग के पद के बावजूद, अंबेडकर और उनका परिवार भारत की एक दलित जाति से संबंधित था। भारतीय परंपरा के अनुसार, जाति प्रथा समाज के प्रत्येक सदस्य की भूमिका निर्धारित करती थी। दलित जाति का होने के नाते, अंबेडकर जी को अछूत माना जाता था। 19वीं और 20वीं शताब्दी के दौरान भारतीय जनसंख्या का एक बड़ा हिस्सा अछूत था। कई मामलों में, लोगों को केवल गरीबी और ऐसी अन्य स्थितियों के कारण दलित की श्रेणी में डाल दिया जाता था जिनपर किसी का कोई नियंत्रण नहीं होता है। अछूतों को कई रोजगार और शैक्षिक अवसरों से दूर रखा जाता था। अछूत अलग भी रहते थे।

अछूत होने के कारण, अंबेडकर जी को अपनी बाल्यावस्था के दौरान बहुत सारे भेदभाव का सामना करना पड़ा था। दलित होने के बावजूद, अंबेडकर जी ने स्कूल में बहुत कठिन परिश्रम के साथ पढ़ाई की। अपने कठिन परिश्रम की वजह से उन्होंने हाई स्कूल की प्रवेश परीक्षाओं के दौरान बहुत अच्छे अंक प्राप्त किये। अछूतों को हाई स्कूल के स्तर की पढ़ाई करने का बहुत कम अवसर मिलता था, इसलिए अंबेडकर जी के जीवन में यह एक बहुत महत्वपूर्ण क्षण था। जहाँ अंबेडकर जी रहते थे वहां के अछूतों के समुदाय ने उनकी सफलता का जश्न मनाया और उन्हें उपहारों से सम्मानित किया। अंबेडकर जी की बढ़ती प्रसिद्धि की यह केवल एक शुरुआत थी।

Ambedkar Jayanti

शिक्षा

हाई स्कूल पूरा करने के बाद, अंबेडकर जी कोलंबिया विश्वविद्यालय चले गए। जल्दी ही इस प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय से स्नातक होने के बाद अंबेडकर जी ने लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स और पॉलिटिकल साइंस में अध्ययन किया। लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स और पॉलिटिकल साइंस में ही अंबेडकर जी ने भारत में सामाजिक समानता के संबंध में कई योजनाएं बनायीं। लंदन छोड़ने के बाद, रोजगार के लिए और पारिवारिक जिम्मेदारियां निभाने के लिए अंबेडकर जी भारत वापस आ गए।

रोजगार की खोज
अपनी औपचारिक शिक्षा पूरी करने के बाद अंबेडकर जी ने कई रोजगार किये। हालाँकि, शुरुआत में अंबेडकर जी को इन सभी रोजगारों में पर्याप्त सफलता प्राप्त होती थी, लेकिन अंत में वो विफल हो जाते थे क्योंकि अछूत होने की वजह से उनके ग्राहक उनके साथ काम करने से मना कर देते थे। बचपन में भेदभाव और कठिनाई का सामना करने के बाद, ये आर्थिक समस्याएं उनके सहन शक्ति की सीमा से बाहर थीं। अंत में, अंबेडकर जी ने गरीबों और दलितों की समस्याओं को दूर करने के लिए भारतीय राजनीति में प्रवेश करने का फैसला किया।

Ambedkar Jayanti

राजनीति

एक राजनेता के रूप में, अंबेडकर जी ने ऐसे कई अभियानों का नेतृत्व किया जो संपूर्ण भारतवर्ष के अछूतों और धार्मिक अल्पसंख्यकों को ध्यान में रखकर किये गए थे। अंबेडकर जी ने विरोध प्रदर्शनों का नेतृत्व भी किया और अछूतों को शिक्षित करने की महत्ता के बारे में बताया ताकि वे अपनी दयनीय सामाजिक स्थिति से बाहर निकल सकें। अपनी मृत्यु के समय तक, अंबेडकर जी ने अछूतों और अल्पसंख्यकों  के लिए भारत को ज्यादा सहिष्णु स्थान बनाने में भारत की सहायता की।

बाबा साहब अंबेडकर के जीवन और उनकी वजह से वर्तमान में मौजूद कई बेहतर सामाजिक स्थितियों को सम्मानित करने के लिए भारतीय जनता अंबेडकर जयंती मनाती है।

ये खबर भी पढ़े:  अगर 5 दिनों में दिखाई दें ये लक्षण, तो तुरंत जाकर करवा लें कोरोना वायरस की जांच

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From national

Trending Now
Recommended