संजीवनी टुडे

लॉकडाउन के बाद चलने वाली सभी ट्रेने फुल ,वरिष्ठ नागरिकों को भी नहीं मिल रही छूट,जानिये वजह

संजीवनी टुडे 05-04-2020 11:24:44

सरकार कोरोनावायरस के प्रकोप को देखते हुए लॉकडाउन खत्म होने के बाद भी किसी तरह की भीड़ नहीं चाह रही है।


नई दिल्ली। सरकार कोरोनावायरस के प्रकोप को देखते हुए लॉकडाउन खत्म होने के बाद भी किसी तरह की भीड़ नहीं चाह रही है। सीनियर सिटीजन को टिकट बुकिंग में रियायत नहीं देने के पीछे सरकार यही चाहती है कि अभी लोग अनावश्यक  यात्रा करने से बचे। गौरतलब है कि अब तक महिलाओं को 50 और पुरुषों को 40 प्रतिशत छूट सीनियर सिटीजन के नाते दी जाती थी और टिकट बुक करने के वक्त भारत वाले विक्लप के बाद आता था। 

d

कोरोना वायरस लॉकडाउन की वजह से ट्रेन सेवा वर्तमान में बंद है, लेकिन 15 अप्रैल से रेल परिचालन शुरू होने की संभावना के मद्देनजर टिकट बुक कराने वालों की भी भीड़ बढ़ गई है। लॉकडाउन खत्म होने का इंतजार कर रहे अभी से ही रेल यात्री एडवांस टिकट बुकिंग कराने लगे हैं। आलम यह है कि कई प्रमुख ट्रेनों में 16 से 20 अप्रैल की स्लीपर और एसी की सीटे फुल होने के कारण वेटिंग लिस्ट की स्थिति पहुंच गई है। यह स्थिति तब है जब रेलवे की ओर से सीनियर सिटीजन यानी वरिष्ठ नागरिकों को दूरी में दी जाने वाली छूट नहीं दी जा रही है।

देश में 21 दिन के पूर्व घोषित लॉकडाउन की अवधि 14 अप्रैल को समाप्त हो रही है, हालांकि इस पर अंतिम निर्णय कोरोनावायरस पर गठित केंद्र सरकार के मंत्रियों के समूह को लेना है। लेकिन रेलवे ने सभी संबंधित अधिकारियों को ड्यूटी पर तैयार रहने के निर्देश दिए हैं। इसको देखते हुए रेल यात्रियों ने धड़ाधड़ एडवांस टिकट बुक कराने की शुरुआत कर दी हैं। ट्रेनों में सभी बुकिंग बुक होने के कारण नौबत वेटिंग लिस्ट आ पहुंची हैं। इसमें हवड़ा-देहरादून एक्सप्रेस, दिल्ली-पुरुषोत्तम एक्सप्रेस, जलियांवाला बाग एक्सप्रेस, टाटा जे तवी एक्सप्रेस, उत्कल एक्सप्रेस आदि की एसी व स्लीपर की सीटे भर गई हैं।

लॉकडाउन के चलते देशभर के सभी रेलवे टिकट काउंटर बंदहोने के कारण टिकट की बुकिंग सिर्फ आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर चल रही है। इसमें वरिष्ठ नागरिकों को रेल दूरी में रियायत देने वाला कॉलम ही गायब है। यानी वरिष्ठ नागरिकों को रेल दूरी में छूट नहीं दी जा रही है।
 बता दें कि रेलवे ने यह कदम  कोरोनावायरस के फैलाव को कम करने के उद्देश्य से 20 मार्च मध्य रात से छात्र, दिव्यांगजनों, मरीजों को छोड़कर विभिन्न कुल 53 श्रेणियों के तहत दी जाने वाली रियायात समाप्त कर दिया थी। इसका उद्देश्य कम से कम संख्या में लोग ट्रेनों से यात्रा करें। विशेषकर वरिष्ठ नगारिकों को कोरोना से भिन्न होने का अधिक खतरा रहता है।

यह खबर भी पढ़े चीन ने दोस्त पाकिस्तान को लगाया चूना, भेजे अंडरगारमेंट से बने मास्क

यह खबर भी पढ़े खाना बनाने के वीडियो पोस्ट करने वालों से नाराज सानिया मिर्जा, बोली- जो भूख की वजह से मर रहे हैं और...

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From national

Trending Now
Recommended