संजीवनी टुडे

एयर स्ट्राइक: पाकिस्तान ने किया जान-माल के नुकसान से इनकार

संजीवनी टुडे 26-02-2019 17:49:24


इस्लामाबाद। पाकिस्तान ने बालाकोट में आतंकवादी अड्डे पर भारतीय वायुसेना की बड़ी कार्रवाई से इनकार करते हुए मंगलवार को कहा कि उस इलाके में कोई आतंकवादी अड्डा नहीं था। पाकिस्तान ने भारत की कार्रवाई में जान-माल के किसी नुकसान से भी इनकार किया है।

प्रधानमंत्री इमरान खान की अध्यक्षता में राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की बैठक के बाद विदेश मंत्री शाह मोहम्मद कुरैशी ने पत्रकार वार्ता में कहा कि भारत की कार्रवाई पाकिस्तान की संप्रभुता पर हमला है। इसका जवाब दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान जवाबी कार्रवाई का समय और स्थान खुद तय करेगा।

राष्ट्रीय सुरक्षा समिति में तीनों सेनाओं के प्रमुखों ने भी भाग लिया। बैठक में कहा गया कि भारत की कार्रवाई से पूरे क्षेत्र की शांति और स्थायित्व को खतरा पैदा हो गया है।राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की बैठक में देश की सर्वप्रमुख सुरक्षा संस्था राष्ट्रीय सुरक्षा अथॉरिटी और संसद के संयुक्त अधिवेशन की बैठक बुधवार को तलब की गई है।

भारत के साथ पूर्ण स्तर का युद्ध शुरू होने की आशंका के बारे में विदेश मंत्री ने कहा कि हालात बहुत नाजुक हैं। पाकिस्तान स्थिति को और बिगाड़ने के पक्ष में नहीं है। कुरैशी ने भारतीय कार्रवाई को देश में होने वाले आम चुनाव से जोड़ते हुए कहा कि मोदी सरकार ने घरेलू मोर्चे पर राजनीतिक और चुनावी फायदा उठाने के लिए यह कार्रवाई की है और इस बारे में झूठा प्रचार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि भारतीय युद्धक विमान पाकिस्तानी क्षेत्र में केवल 3 मिनट तक रहे और पाकिस्तानी वायुसेना की मुस्तैदी के कारण उन्हें वापस लौटना पड़ा।
पाकिस्तानी विदेशमंत्री ने कहा कि आतंकवादी अड्डे को नष्ट करने के भारतीय दावे के बारे में सच्चाई सामने लाने के लिए देश-विदेश की मीडिया को शीघ्र ही मौके पर ले जाएगा।

पाकिस्तानी नेता ने कहा कि स्वयं भारत में मोदी सरकार के दावे को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं। इस संबंध में उन्होंने जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की इस टिप्पणी का उल्लेख किया कि भारतीय कार्रवाई के संबंध में परस्पर विरोधी बातें सामने आ रही हैं। कुरैशी के अनुसार महबूबा ने भी भारत की कार्रवाई को मनगढ़ंत कहानी माना है।

पाकिस्तानी विदेशमंत्री ने पत्रकार वार्ता में नरेन्द्र मोदी सरकार और भारतीय जनता पार्टी को निशाना बनाते हुए कहा कि पिछले दिनों हुए पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। अपनी चुनावी संभावनाओं को बेहतर बनाने के लिए भारत की ओर से आतंकीवादी अड्डे पर हमले की कहानी रची गई। उन्होंने दावा किया कि कुछ दिनों पहले ही उन्होंने सुरक्षा परिषद् के पांच स्थाई सदस्यों के राजनयिकों से मुलाकात के दौरान यह आशंका जताई थी कि भारत की ओर से आक्रमण की कोई कार्रवाई हो सकती है। पाकिस्तान की यह आशंका सही साबित हुई।

कुरैशी ने इस्लामी सहयोग सगंठन (ओआईसी) के विदेशमंत्रियों की अबूधाबी में 1 और 2 मार्च को होने वाली बैठक में भारतीय विदेशमंत्री सुषमा स्वराज को निमंत्रण दिए जाने पर भी आपत्ति व्यक्त की। उन्होंने कहा कि भारत न तो इस संगठन का सदस्य है और न ही उसे पर्यवेक्षक का दर्जा प्राप्त है। इस सूरत में भारतीय विदेशमंत्री को बैठक में आमंत्रित करने का कोई औचित्य नहीं है। कुरैशी के अनुसार प्रधानमंत्री इमरान खान ने संयुक्त अरब अमीरात और सऊदी अरब के शासकों से स्वयं बातचीत कर अपना एतराज दर्ज कराया है।

जयपुर में प्लॉट मात्र 2.30 लाख में Call On: 09314188188

पाकिस्तान की संसद में कई सदस्यों ने सुषमा स्वराज के ओआईसी की बैठक में भाग लेने की सूरत में देश की ओर से बहिष्कार किए जाने की मांग की। विदेशमंत्री ने बहिष्कार का संकेत देते हुए कहा कि बालाकोट में भारत की कार्रवाई से उत्पन्न नई परिस्थिति के बारे में वह बैठक के आयोजकों से आज फिर बात करेंगे।

MUST WATCH & SUBSCRIBE

उल्लेखनीय है कि उरी हमले के बाद भारत ने जब पहली बार सर्जिकल स्ट्राइक की थी। उस समय भी पाकिस्तान में इसे मनगढ़ंत कहानी बताया था। बाद में यह तथ्य सामने आए थे कि सर्जिकल स्ट्राइक में बड़ी संख्या में आतंकवादी मारे गए, जिनके शवों को ट्रकों पर लादकर ले जाया गया।

More From national

Trending Now
Recommended