संजीवनी टुडे

सरकार लगाना चाहती है 10 लाख पीओएस मशीनें

संजीवनी टुडे 29-11-2016 13:31:13

The government wants to set up 10 million POS machines

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद सरकार देश को कैशलेस इकॉनमी बनाने का दावा कर रही है। कैशलेस ट्रांजैक्शन को बढ़ावा देने के लिए सरकार बैंकों को अगले तीन महीने में 10 लाख स्वाइप मशीन इंस्टॉल करने के लिए कह रही है। अकेले स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) से 6 मशीन इंस्टॉल करने की उम्मीद की जा रही है। बैंक और मैन्युफैक्चरर्स को प्रोत्साहित करने के लिए केंद्र सरकार ने पीओएस (प्वाइंट ऑफ सेल) मशीनों के मैन्युफैक्चरिंग के सामान पर से एक्साइज ड्यूटी हटा ली है। 

पीओएस मशीनों के मैन्युफैक्चरिंग को 12.5% एक्साइज ड्यूटी और 4% स्पेशल एडिशनल ड्यूटी (एसएडी) से छूट दी जाएगी। अभी देश में कुल 14.6 लाख पीओएस टर्मिनल्स हैं। 10 लाख आउटलेट्स पर कार्ड से पेमेंट ली जा रही है। दुकानों और बैंकों में यह नेटवर्क तैयार होने में 5 साल का समय लगा है, लेकिन सरकार इसी टारगेट को 3 महीने में हासिल करना चाहती है। एसबीआई की एमडी मंजु अग्रवाल ने कहा, हमने 1 लाख मशीनों का ऑर्डर दिया है। उम्मीद है कि जनवरी तक इसकी आपूर्ति हो जाएगी। हमने 5 लाख और मशीनों के प्रस्ताव की गुजारिश की है।

एसबीआई ने भी पीओएस मशीनों पर एक्साइज ड्यूटी खत्म करने की मांग की थी, जिसपर सरकार ने सकारात्मक प्रतिक्रिया दी। नेशनल पेमेंट कार्पोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) के एमडी और सीईओ ए.पी होता ने कहा, सरकार 3 महीने में 10 लाख टर्मिनल्स लगाना चाहती है। अगर हम मिशन मोड में काम करें तो इस टारगेट को हासिल किया जा सकता है। इससे पेमेंट के लिए कार्ड यूज को बढ़ावा मिलेगा।  उन्होंने यह भी कहा कि यह आंकड़ा काफी छोटा है, ब्राजील की जनसंख्या हमारे छठवें हिस्से के बराबर है, लेकिन वहां 50 लाख पीओएस मशीनें लगी हैं। इस अनुपात के लिए हमारे देश में 2.5 करोड़ टर्मिनल्स की जरूरत है।

यह भी पढ़े :बड़े भाई को हुआ छोटी बहन से प्यार, पिता ने करा दी सगाई!

यह भी पढ़े :शादी में दूल्हा-दुल्हन को क्यों लगाई जाती है मेहंदी? जाने वजह

यह भी पढ़े :जाने, दांतों की सेहत आपकी SEX LIFE को कर सकती है खराब! 

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

More From national

loading...
Trending Now
Recommended