संजीवनी टुडे

स्मॉग की समस्या से निपटने के लिए तैयार है हरियाणा व दिल्ली सरकार, लागु होंगे ये नए नियम

संजीवनी टुडे 15-11-2017 15:42:23

Haryana and Delhi government will be ready to deal with the problem of smug

नई दिल्ली। हरियाणा में पराली जलाने और स्‍मॉग के मामले पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल आैर दिल्‍ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के बीच बुधवार को बैठक हुई। बैठक में पराली जलाने से राेकने और स्‍मॉग की  समस्‍या से निपटने के रास्‍ते तलाशे।राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और एनसीआर में स्मॉग की समस्या से निपटने के लिए हरियाणा व दिल्ली मिलकर काम करेंगे। साथ ही स्मॉग की समस्या से निपटने के लिए वार्ता में अाठ बिंदुओं पर सहमति हुई। 

  

अाठ बिंदु जिन पर सहमति हुई 

इसके तहत हरियाणा और दिल्ली में अब पुराने वाहनों का रजिस्ट्रेशन नहीं होगा तथा नए वाहन सीएनजी पर चलेंगे। गुरुग्राम बस डिपो में नए बेड़े में शामिल होने वाली 500 नई बसें भी सीएनजी वाली होंगी। इसके अलावा केएमपी के निर्माण कार्य में तेजी लाने के साथ ही इस दौरान वहां पानी का छिड़काव किया जाएगा, ताकि प्रदूषण ने फैले। 

यह भी पढ़े: वीडियो : VIDEO : कार सहित बहे आयुष का शव 7 दिन बाद नाले में हुआ बरामद


बैठक के बाद मनोहर लाल और अरविंद केजरीवाल ने एक संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में इसमें किए गए फैसलों के बारे में जानकारी दी। उन्‍होंने बताया कि बैठक में फैसला हुआ कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और एनसीआर में स्मॉग की समस्या से निपटने के लिए हरियाणा व दिल्ली मिलकर काम करेंगे। वार्ता में अाठ बिंदुओं पर सहमति हुई। बैठक में फैसला किया गया कि हरियाणा और दिल्‍ली में अब पुराने वाहनों का रजिस्‍ट्रेशन नहीं हाेगा। अब नए वाहन सीएनजी पर ही चल सकेंगे। दोनों सीएम और दोनों राज्‍यों के अधिकारियों ने इस मुद्दे पर अपने पक्ष रखे। बैठक में इस समस्‍या के हल के लिए मिलजुल कर कार्य करने के लिए रणनीति बनाई गई।


केजरीवाल ने कहा कि हवाओं पर किसी का कंट्रोल नहीं है इसलिए उत्तर भारत की इस समस्या के समाधान के लिए सभी की संयुक्त जिम्मेदारी है। बैठक में हरियाणा के पर्यावरण मंत्री विपुल गोयल समेत राज्‍य के तमाम उच्च अधिकारी मौजूद रहे। 
 इसके बाद दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों और अधिकारियों के बीच पराली से फैलने वाले प्रदूषण को रोकने की रणनीति पर बातचीत शुरू हुई।

यह भी पढ़े: वीडियो : दुष्कर्म पीडिता ने की न्याय की गुहार

दूसरी ओर, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने इस बातचीत को सिरे से खारिज किया है। हुड्डा ने कहा कि मनोहर लाल को केजरीवाल का निमंत्रण स्वीकार नहीं करना चाहिए था। यह मीटिंग पूरी तरह से निरर्थक साबित होने वाली है। उन्‍होंने कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने केजरीवाल को मिलने का समय न देकर अच्छा निर्णय किया है।

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 0931418818

More From national

loading...
Trending Now
Recommended