संजीवनी टुडे

अयोध्या में भगवान राम की मूर्ति के लिए 200 घरों का होगा अधिग्रहण, अधिसूचना जारी

संजीवनी टुडे 14-06-2019 21:08:45

सरयू नदी के किनारे विश्व की सबसे ऊंची 221 मीटर की भगवान श्रीराम की विशालकाय मूर्ति स्थापित करने के लिए 200 घरों का अधिग्रहण किया जाना है।


अयोध्या। सरयू नदी के किनारे विश्व की सबसे ऊंची 221 मीटर की भगवान श्रीराम की विशालकाय मूर्ति स्थापित करने के लिए 200 घरों का अधिग्रहण किया जाना है। इसके लिए प्रदेश सरकार ने शुक्रवार को अधिसूचना जारी कर दी है। अधिग्रहीत किये जाने वाले घर के मालिकों ने अधिक मुआवजा के लिए डीएम से मुलाकात की है। 222 लोगों की 29 हेक्टेयर अधिग्रहीत होगी जमीन  प्रस्तावित मूर्ति की स्थापना के लिए करीब 222 लोगों की 265 गाटा संख्या से 28.2864 हेक्टेयर भूमि क्रय की जानी है। सर्किल रेट के हिसाब से जमीन की कीमत 38 करोड़ 6 लाख आंकी गई है, लेकिन नियमानुसार ग्रामीण क्षेत्र की भूमि का मुआवजा सर्किल रेट से चार गुना और शहरी क्षेत्र की भूमि का मुआवजा सर्किल रेट से दोगुना देने की व्यवस्था है। श्रीराम की मूर्ति के लिए अधिग्रहण की कार्रवाई शुरू कर दी गई है। कुल 28.2864 हेक्टयर भूमि अधिग्रहीत की जानी है। जमीन अधिग्रहण करने का नोटीफिकेशन आज जारी कर दिया गया है। भू स्वामी 20 जून तक कागजात के साथ अपना पक्ष कार्यालय आकर रख सकते हैं।

योगी सरकार ने विश्व की सबसे ऊंची 221 मीटर की भगवान श्रीराम की विशालकाय मूर्ति स्थापित करने की कवायद तेज कर दी है। सरकार ने श्रीराम की मूर्ति के लिए पहले ही 200 करोड़ का बजट स्वीकृत कर दिया है। रामनगरी में सरयू नदी किनारे रेलवे पुल के पास 222 लोगों की 28.2864 हेक्टयर भूमि ली जानी है। इसमें 66 भवन व 5 मदिरों के अधिग्रहण का भी प्रस्ताव है। सरकार इस मूर्ति को भव्यता प्रदान करने की पूरी तैयारी में है। 

मूर्ति में 20 मीटर का होगा क्षत्र  
रामनगरी में स्थापित होने जा रही यह प्रतिमा स्टेचू ऑफ यूनिटी से भी ऊंची होगी। स्टेचू ऑफ यूनिटी की ऊंचाई 182 मीटर है, जबकि प्रस्तावित भगवान श्रीराम की प्रतिमा की कुल ऊंचाई 221 मीटर होगी। इसका आधार 50 मीटर का होगा जिसके ऊपर 20 मीटर ऊंचा क्षत्र लगेगा। जिला प्रशासन जमीन अधिग्रहण कर रहा है लेकिन रामघाट के लोग जमीन अधिग्रहण का विरोध कर रहे हैं। उनका मानना है कि अगर जमीन का अधिग्रहण करना है तो सर्किल रेट से चार गुना मुआवजा और पुनर्वास के लिए अलग से जमीन दी जाए जिसके लिए प्रशासन मानने को तैयार नहीं है। 

जिलाधिकारी से मिले रामघाट के निवासी 
आज 100 से अधिक महिलाओं व पुरुषों ने जिलाधिकारी अनुज झा से मुलाकात करके अपनी 12 सूत्रीय मांग रखी। उनका कहना है कि पहले तो जमीन का अधिग्रहण न किया जाए लेकिन अगर अधिग्रहण किया जाना है तो उनकी मांगे मानी जाए। रामघाट के निवासियों की मांग है कि जमीन मालिकों को सर्किल रेट की दर से 4 गुना मुआवजा दिया जाए और पुनर्वास के लिए उन्हें अलग से जमीन उपलब्ध कराई जाए। यही नहीं पीड़ित परिवार के एक सदस्य को भगवान श्री राम की प्रतिमा से जुड़े हुए ड्रीम प्रोजेक्ट में योग्यता के अनुसार नौकरी भी दी जाए।

मात्र 260000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166 

More From national

Trending Now
Recommended