संजीवनी टुडे

लॉकडाउन में रमजान के 10 दिन: मुसलमानों के लिए एडवाइजरी जारी- घरो से करें इबादत

संजीवनी टुडे 14-04-2020 16:35:00

कोरोना वायरस महामारी के चलते देशभर में 21 दिन से जारी लॉकडाउन को 19 दिन और बढ़ाकर 3 मई तक कर दिया है।


नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी के चलते देशभर में 21 दिन से जारी लॉकडाउन को 19 दिन और बढ़ाकर 3 मई तक कर दिया है। अब अगर 23 अप्रैल की रात चांद दिखता है तो रमजान 24 अप्रैल से शुरू हो जाएगा, 24 अप्रैल से 3 मई तक लॉकडाउन रहेगा। यानी रमजान के शुरुआती 10 दिन लॉकडाउन में गुजरना तय है। मुस्लिम समुदाय के लोग मस्जिदों में नहीं जा सकेंगे, उन्हें अपने घरों में ही इबादत और इफ्तार करना होगा। रमजान में पढ़ी जाने वाली विशेष नमाज तरावीह भी मस्जिदों में नहीं होगी। इस्लामिक सेंटर ऑफ इंडिया के चेयरमैन और लखनऊ के शहर काजी मौलाना खालिद रशीद फिरंगी महली ने मुसलमानों के लिए एडवाइजरी जारी की है।

उन्होंने कहा- रमजान में लॉकडाउन का पालन करें और इस महामारी से बचाने के लिए अल्लाह से खास दुआ करें। रमजान में लोग तरावीह की नमाज पढ़ें, लेकिन मस्जिद में एक वक्त में पांच से ज्यादा लोग जमा ना हों। मोहल्ले के बाकी लोग मस्जिदों में आने की बजाय घरों में ही रहकर तरावीह और दूसरी नमाजें अदा करें। मौलाना खालिद रशीद फिरंगी महली ने कहा- रमजान के महीन में जो लोग मस्जिद में इफ्तारी भेजते थे, वे इस साल भी करें, लेकिन मस्जिद की बजाय जरूरतमंदों के घर पहुंचाएं।

रमजान में इफ्तार पार्टियां करने वाले इसकी रकम से गरीबों को राशन बांटें। रोजेदार इस बात को तय करें कि कोई भी इंसान भूखा ना रहे। जिन लोगों पर जकात फर्ज है, वे गरीबों में जकात जरूर बांटें। केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने भी मुस्लिम समाज से लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की अपील की। उन्होंने घरों पर ही इबादत करने का अनुरोध किया। राज्यों के वक्फ बोर्डों की रेगुलेटरी बॉडी (नियामक संस्था) केन्द्रीय वक्फ परिषद के अध्यक्ष नकवी ने बताया कि कोरोना को हराने के लिए सऊदी अरब सहित ज्यादातर मुस्लिम देशों ने भी रमजान के दौरान धार्मिक कार्यक्रमों पर रोक लगा दी है।

रमजान इस्लामिक कैलेंडर का नौवां महीना है। इसके अगले दसवें महीने को शव्वाल कहा जाता है। इस महीने की पहली तारीख को ईद-उल-फितर मनाते हैं। पूरी दुनिया के मुस्लिम इस्लामिक धार्मिक पर्वों को मनाने का सही समय जानने के लिए इस कैलेंडर का इस्तेमाल करते हैं। यह कैलेंडर चांद पर आधारित है। कभी महीना 29 दिन का होता है, तो कभी 30 दिन का। साल में बारह महीने और 354 या 355 दिन होते हैं। सूर्य पर आधारित कैलेंडर से यह 11 दिन छोटा होता है। इसलिए इस्लामी धार्मिक तिथियां हर साल पिछले सोलर कैलेंडर के हिसाब से 11 दिन पीछे हो जाती हैं।

यह खबर भी पढ़े: कोरोना वायरस: शाहरुख खान ने महाराष्ट्र हेल्थ वर्कर्स को उपलब्ध कराई 25 हजार PPE किट

यह खबर भी पढ़े: Coronavirus: महाराष्ट्र में मिले 128 नए मामले, संक्रमितों मरीजों की संख्या बढ़कर हुई 2452

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From national

Trending Now
Recommended