संजीवनी टुडे

पैसे की मांग पूरी नहीं की तो उच्च अंक वाले अभ्यर्थी रह गए प्रतीक्षा सूची में

संजीवनी टुडे 14-07-2020 07:45:27

पैसे की मांग पूरी नहीं की तो उच्च अंक वाले अभ्यर्थी रह गए प्रतीक्षा सूची में


गुना। एक बार फिर स्वास्थ्य विभाग में कोविड.19 के तहत विभिन्न पदों के लिए होने वाली नियुक्तियों में बड़े स्तर पर धांधली होने और पैसे की डिमांड किए जाने की शिकायत कलेक्टर से लेकर स्वास्थ्य मंत्री तक पहुंच गई है। सबसे अधिक धांधली लैब टैक्नीशियन के पद पर हुई है, जहां दो ऐेसे लोगों की नियुक्ति हुई है जो जिला अस्पताल में पदस्थ डॉक्टर के यहां कार्यरत हैं। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार  कोविड 19 की रोकथाम हेतु तीन माह की अवधि के लगभग 97 विभिन्न पदों के लिए अभ्यर्थियों से आवेदन आमंत्रित किए गए थे।जिनकी नियुक्ति के लिए एक चयन समिति का कलेक्टर एस. विश्वनाथन ने गठन किया था। कलेक्टर ने निष्पक्ष और योग्यता के आधार पर इन पदों को भरे जाने के निर्देश दिए थे। लेकिन स्वास्थ्य विभाग के सीएमएचओ और चयन समिति के दो पदाधिकारियों ने अपने स्वार्थ के खातिर योग्य की जगह अयोग्य सात.आठ लोगों की नियुक्ति कर ली। 

लैब टैक्नीशियन के पद भरने में मनमानी 
चयनित लैब टैक्नीशियन के पद के लिए भरे गए एक अभ्यर्थी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि उसके चयनित दो.तीन उम्मीदवारों से अधिक नम्बर थे। उसका चयन लैब टैक्नीशियन के पद पर होने की सूचना भी मिल गई थी। दो दिन पूर्व सीएमएचओ का नजदीक और राघौगढ़ में मूल पदस्थापना होने के बाद सीएमएचओ कार्यालय में अटैच संविदा कर्मचारी ने मिलने के लिए खबर भिजवाई। उक्त संविदा कर्मचारी ने चयन के बदले चालीस हजार रुपये देने की बात कही, लेकिन उसने पैसे न देने की बात कही। 

उसका कहना था कि मेरा मोबाइल बाहर रखवा लिया थाए अन्यथा मैं तो कैमरे में यह सब रिकार्डिंग करके ही गया था। उसने कहा कि पैसे न देने का परिणाम ये है कि उससे कम अंक वाले का सिलेक्शन लैब टैक्नीशियन की चयनित सूची में दर्ज हो गया और उसको प्रतीक्षा सूची में रखा गया है। ऐसे ही स्टाफ नर्स के लिए  लिए एक युवती  ने फार्म भरा था, वह योग्यता के पात्र भी थी। सीएमएचओ कार्यालय से एक व्यक्ति ने उसको चयनित होने के लिए संविदा कर्मचारी से मिलने का संदेश पहुंचाया, लेकिन वह मिलने नहीं गई,  उसको भी चयनित सूची में न रखकर प्रतीक्षा सूची में रखा है।
 
सात रखना थे चिकित्सा अधिकारी, दो ही पहुंचे 
कोविड-19 के तहत सात चिकित्सा अधिकारी के पदों को भरने के लिए आवेदन आमंत्रित किए गए थे, लेकिन इनमें से दो ने आवेदन भर, उनको चयनित किया गया। जो खाली पद रह गए हैं उनको पुनरू भरे जाने की कार्रवाई की जाएगी। उधर आयुष चिकित्सा अधिकारी के पद पर होम्योपैथी चिकित्सकों का चयन किया है,  इसमें आयुर्वेदिक डिग्री वालों को तरजीह नहीं दी। इसकी नियुक्ति में एक उस अभ्यर्थी को अयोग्य कर दिया जो बीते दस वर्ष से आयुष डॉक्टर के रूप में अपनी सेवाएं दे रही हैं।अभ्यर्थियों का कहना था कि इस सूची को निरस्त किया जाए।  इसमें काफी अनियमितता हुई है। 

कलेक्टर ने सूची जारी की 
कोविड.19 के तहत तीन माह के लिए रखे जाने वाले कर्मचारी और डॉक्टरों की नियुक्ति को लेकर तीन.चार दिन से विवाद चल रहा था। यह विवाद ज्यादा न बढ़े इसको देखते हुए कलेक्टर एस. विश्वनाथन ने चयनित लोगों के नाम की सूची जारी कर दी है। आयुष चिकित्सा अधिकारी के पद पर चयनित. नसरीन रसूल, नवांकुर नामदेव, हरेन्द्र यादव, विशाल सिंह धाकड़, सुनंदा परिहार, नरेश धाकड़। इनके अलावा तीन प्रतीक्षा सूची में। 

यह खबर भी पढ़े: रूठों की मान-मनौव्वल के लिए मंगलवार को दोबारा बुलाई कांग्रेस विधायक दल की बैठक

यह खबर भी पढ़े: कोरोना के चलते दो दिन बंद रहेगा रेल भवन

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From madhya-pradesh

Trending Now
Recommended