संजीवनी टुडे

पंजाब के एक लाख से अधिक मतदाताओं को नहीं भाया कोई उम्मीदवार

संजीवनी टुडे 23-05-2019 22:41:40


चंडीगढ़। पंजाब में एक तरफ जहां ढाई सौ से अधिक उम्मीदवारों ने चुनावी ताल ठोकी, वहीं राज्य में करीब एक लाख ऐसे भी मतदाता थे जिन्होंने किसी भी उम्मीदवार को स्वीकार नहीं किया। इन मतदाताओं ने अपना विरोध जताते हुए 'नोटा' का बटन दबाया। राज्य में कुछ एक क्षेत्र तो ऐसे भी हैं जहां जीत का दम भरने वाले राजनीतिक दलों के उम्मीदवारों के मुकाबले नोटा को अधिक वोट मिले हैं। 

नोटा के प्रति लोगों में बढ़ रहा रूझान इस बात का भी संकेत है कि चुनावी रण में उतरने वाले नेता जनता की उम्मीदों पर खरे नहीं उतर रहे हैं। पंजाब में एक लाख 38 हजार 156 मतदाताओं ने नोटा का इस्तेमाल किया। निर्वाचन आयोग से मिली अधिकारिक जानकारी के अनुसार राज्य के अमृतसर लोकसभा क्षेत्र से आरपीआई एवं शिवसेना जैसे राजनीतिक दलों के उम्मीदवारों को एक से दो हजार वोट मिले, वहीं इस सीट पर नोटा के खाते में 8602 वोट आए। आनंदपुर साहिब लोकसभा सीट से शिरोमणि अकाली दल(टकसाली) के उम्मीदवार एवं विधानसभा के पूर्व डिप्टी स्पीकर वीर दविंदर सिंह को महज 10 हजार 227 वोट मिले हैं, जबकि नोटा को इस सीट पर 16 हजार 969 वोट मिले हैं। 

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

वहीं बठिंडा लोकसभा सीट पर शिरोमणि अकाली दल अमृतसर के उम्मीदवार को 3777 वोट मिले और नोटा को 13 हजार 220 वोट मिले हैं। फरीदकोट में नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी(एनसीपी) के डॉ दलजीत सिंह चौहान को 3397, इंडियन डैमोक्रेटिक फ्रंट के अजय कुमार 6084 वोट मिले, जबकि यहां पर नोटा के खाते में 19014 वोट दर्ज किए गए। फतेहगढ़ साहिब सीट पर नोटा के खाते में कुल 12 हजार 973 वोट आए हैं। फिरोजपुर लोकसभा सीट से नोटा को 14 हजार 436 लोगों का समर्थन मिला है। गुरदासपुर लोकसभा सीट पर सीपीआई को जहां 2420 वोट मिले हैं, वहीं यहां के 9461 मतदाताओं ने नोटा को पसंद किया है। होशियारपुर लोकसभा सीट पर नोटा के खाते में 12 हजार 761 वोट आए हैं। पंजाब के जालंधर लोकसभा क्षेत्र में 12 हजार 247, खडूर साहिब में 5082, लुधियाना सीट पर दस हजार 458, पटियाला में 11049, संगरूर में 6320 लोगों ने नोटा दबाकर अपना विरोध दर्ज करवाया है।

More From loksabhaelection

Trending Now